Author Archives: संजय मिश्रा

संजय मिश्रा

About संजय मिश्रा

लगभग दो दशक से प्रिंट और टीवी मीडिया में सक्रिय...देश के विभिन्न राज्यों में पत्रकारिता को नजदीक से देखने का मौका ...जनहितैषी पत्रकारिता की ललक...फिलहाल दिल्ली में एक आर्थिक पत्रिका से संबंध।

बिहार में बड़ी लकीर का विप्लव

संजय मिश्र।  बीजेपी के इशारे पर मनमोहन सिंह ने सोनिया गांधी को मझधार में फंसा दिया, कुछ इसी तरह की हेडलाइन टीवी चैनलों पर चले तो आप हैरान हुए बिना नहीं रहेंगे। बिहार में जो राजनीतिक विप्लव आया और आगे … विस्तार से पढ़ें

Posted in पहला पन्ना | Leave a comment

मुसलिम अटीट्यूड – परसेप्शन एंड रिएलिटी ( भाग-६)

लालू छुटपन में जब गांव के अपने आंगन में मिट्टी में लोटते होंगे…मुलायम तरूणाई में जब गांव के गाछी में पहलवानों के दांव देख अखाड़े में एन्ट्री मिलने के सपने देख रहे होंगे… कम से कम उस समय तक… मिथिला … विस्तार से पढ़ें

Posted in पहला पन्ना | Leave a comment

मुसलिम अटीट्यूड – परसेप्शन एंड रिएलिटी (भाग-४)

—————– संजय मिश्र ———– १३-१०-२०१२…बिहार के दरभंगा नगर के पोलो ग्राउंड में करीब २० हजार लोग जमा हुए… वे काफी रोष में थे… … यूएसए गो टू हेल, ओबामा अब बस करो.. जैसे नारे फिजा में गूंज रहे थे… ये … विस्तार से पढ़ें

Posted in पहला पन्ना | Leave a comment

मुसलिम अटीट्यूड – परसेप्शन एंड रिएलिटी ( भाग-३)

संजय मिश्र इंडिया के करीब सौ मुसलमान युवकों के फरार होने की खबर सार्वजनिक हुई तो देश के समझदार तबकों में सनसनी फैल गई… दबे स्वर में उन्होंने चिंता जताई… खबर खुफिया स्रोतों की तरफ से आई थी… आशंका है … विस्तार से पढ़ें

Posted in पहला पन्ना | Leave a comment

मुसलिम अटीट्यूड – परसेप्शन एंड रिएलिटी ( भाग-१)

संजय मिश्र इंडिया का राजनीतिक और सामाजिक विमर्श यही मान कर चल रहा है कि आबादी के बड़े हिस्से ने जीने का सलीका तो बदला है लेकिन मुसलमान औरंगजेब और ब्राम्हण मनु के दौर में बने हुए हैं…हकीकत इससे अलग … विस्तार से पढ़ें

Posted in पहला पन्ना | Leave a comment

गुहा…भागवत और डीडी

संजय मिश्र उम्मीद नहीं थी कि इतिहासकार राम चन्द्र गुहा आरएसएस की खिलाफत के लिए इतना कमजोर दांव खेलेंगे…. उन्हें दूरदर्शन पर मोहन भागवत के भाषण दिखाने पर आपत्ति है… वो कहते कि आरएसएस कम्यूनल है… लगे हाथ मोहन भागवत … विस्तार से पढ़ें

Posted in अंदाजे बयां | Leave a comment

नीतीश के ब्रांड बिहार का आलाप- चिंता या चाल

अभी लटापटी की कामना हिलोरें ले रही….साथ में उलझन है….  और आगे के संबंध की दुश्चिंता…. जिसकी अतरी में ७२ दांत है और जो कि बबूल का पेड़ है, वो अब सुहाना है… संबंधों के इस उठान के बीच २५ … विस्तार से पढ़ें

Posted in पहला पन्ना | Leave a comment

विकास पुरूष लौटे मंडल राजनीति की गोद में

५ अप्रैल को नीतीश कुमार को सुनना उन लोगों के लिए कसैला स्वाद वाला मेनू साबित हुआ होगा जो उन्हें खांटी विकास पुरूष के रूप में देखना पसंद करते… मौका था जेडीयू घोषणा पत्र के जारी होने का… पार्टी सुप्रीमो … विस्तार से पढ़ें

Posted in पहला पन्ना | Leave a comment

नेहरू…नरेन्द्र मोदी….और राहुल

संजय मिश्र ————— नरेन्द्र मोदी भव्य भारत बनाने का सपना देख और दिखा रहे हैं। उनकी तमन्ना है कि ये देश इतना ऐश्वर्यशाली बने कि वो विकसित देशों की कतार में हो और उसे नेतृत्व दे सके। देश के कोने-कोने … विस्तार से पढ़ें

Posted in ब्लागरी | Leave a comment

मोदी, केजरीवाल और मीडिया-

दिल्ली में राजनीतिक शतरंज की गोटियां बिठाने की चाल हद से ज्यादा चली जा रही है…राजनीतिक खिलाड़ी पर्दे के पीछे हैं और वहां का मीडिया खुद मोहरा बन इसकी अगुवाई कर रहा है… इंडिया में जो वर्ग केजरीवाल के उभार … विस्तार से पढ़ें

Posted in पहला पन्ना | Leave a comment