Category Archives: जर्नलिज्म वर्ल्ड

नीतीश एक त्यागी, तपस्वी और विराट मानव बन सकते थे —-

वरिष्ठ पत्रकार अखिलेश अखिल अपने फेसबुक के वाल पेपर पर नीतीश कुमार से मुत्तालिक टिप्पणी किये हैं। और यह बता रहे हैं कैसे वह नेक्स जेपी बनने से चूक गये। इसके बाद उनके वाल पेपर पर प्रतिक्रियाएं शुरु हो गई।  … विस्तार से पढ़ें

Posted in जर्नलिज्म वर्ल्ड | Leave a comment

जंगल राज का सिक्का आखिर कब तक !

अनिता गौतम बिहार विधान सभा चुनाव में चुनाव पूर्व यह बात तय हो चुकी थी कि महागठबंधन के आकड़े चाहे किसी की भी पार्टी के हो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ही होंगे । फिर जब बिहार में महागठबंधन की सरकारी बनी, … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

राहें कब आसान थी !

अनिता गौतम बिहार की राजनीति इन दिनों दो धुरी के इर्दगिर्द घूम रही है। एक ओर केंद्र में मोदी के नेतृत्व में काबिज होने के बाद बीजेपी बिहार में छोटे-छोटे दलों को साथ लेकर मजबूत लामंबदी करने में जुटी है, … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

लालू ने किया साप्ताहिक अखबार बेबाक जुबान का विमोचन

मजीठिया पर पीएम नरेंद्र मोदी चुप क्यों ?  बेबाक जुबान, पटना से निकलने वाली एक साप्ताहिक पत्रिका ने मजीठिया मसले को उठाया है। नेट वर्ल्ड में मजीठिया आंदोलन बहुत तेजी से चल रहा है। मीडिया और मीडिया से जुड़ी खबरों … विस्तार से पढ़ें

Posted in जर्नलिज्म वर्ल्ड | Leave a comment

राजदीप पर हमले से स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी भी शर्मसार हुई होगी

आलोक नंदन न्यूयार्क के मेडिसन स्कवायर गार्डन में एक तरफ ‘भारत भाग्य विधाता’ की भूमिका अख्तियार कर चुके पीएम नरेंद्र मोदी की भव्य स्वागत में प्रवासी भारतीय का हंसता-झूमता हुजूम ‘मोदी-मोदी’  के जोशपूर्ण नारे लगा रहा था, तो दूसरी ओर … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

मोदी – युग का शुभारंभ !

अनिता गौतम, ‘सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश नहीं झुकने दूंगा’, और अच्छे दिन की उम्मीदों के बीच भारत में पंद्रहवें प्रधानमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी ने देश की बागडोर संभाल ली है। नरेन्द्र मोदी पिछले दस सालों … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

सियासी हुनर की कामयाब महिलायें

विनायक विजेता, वरिष्ठ पत्रकार। बरसों पुराना जुमला है कि महिलाओं को खुद इस बात का इल्म नहीं होता कि उनमें कितनी ताकत है। और तो और, दुनिया भी इन दिनों उनके हाथ मजबूत करने की बात कर रही है। महिला … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

केजरीवाल: ईमानदारी की महत्वाकांक्षी परिभाषा!

अनिता गौतम, भारतीय राजनीति में अरविंद केजरीवाल की भूमिका शुरू से ही संदिग्ध रही है। जन लोकपाल के सबसे बड़े चेहरे अन्ना हजारे को हाशिये पर धकेल कर जिस तरह से उन्होंने आम आदमी पार्टी का गठन किया था, उससे … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

सोशल मीडिया पर बिहार की राजनीति में जंग

अनिता गौतम, सोशल मीडिया पर लड़ी जा रही राजनीतिक जंग में पिछले कुछ दिनों में रोचक बातें देखने को मिलीं। मेघना पटेल को न्यूड होकर नरेन्द्र मोदी और भाजपा का प्रचार करते देखा गया तो राष्ट्रीय जनता दल जैसी रुढ़िवादी … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और मीडिया की आजादी!

अनिता गौतम, मीडिया और राजनीति वैसे तो अलग अलग नहीं हैं, क्योंकि संवैधानिक व्यवस्था में जहां तीन स्तंभ न्यायपालिका, कार्यपालिका, और व्यवस्थापिका को स्वीकार किया गया गया है, उसी तर्ज पर मीडिया को चौथे खंभे यानि फोर्थ स्टेट के रूप … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment