Category Archives: जर्नलिज्म वर्ल्ड

कितना कारगर है यौन शोषण को रोकने के लिए “विशाखा दिशा निर्देश”

तहलका के पूर्व संपादक तरुण तेजपाल का मसला अब लगभग अपनी समाप्ति की ओर अग्रसर है। मीडिया के भारी दबाव व जनचेतना के चलते अब यह मामला कानून और कोर्ट के दहलीज पर पहुच चुका है। जहाँ समयानुसार व विधसम्मत … विस्तार से पढ़ें

Posted in जर्नलिज्म वर्ल्ड | Leave a comment

रैली में अपने ही बम से घायल आतंकी का नाम है ताहीर

विनायक विजेता, वरिष्ठ पत्रकार, आईएम का इनामी आतंकी तहसीन उर्फ मोनू का है रिश्तेदार , ताहिर के चाचा तकी अख्तर हैं जदयू के वरिष्ठ नेता, समस्तीरपुर जिला जदयू अल्पसंख्यक सेल के हैं अध्यक्ष, पूरे मामले में आतंकी तहसीन उर्फ मोनू … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

‘प्लांटवादी पत्रकारिता’ के मक्कार

राजदीप और आशुतोष प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से प्रेरणा लेकर चुपी साधे हुये हैं क्या..? जब पत्रकार अपनी जमीन छोड़कर आसामान में पतंग बनकर उड़ेंगे तो भुकाटा कभी हो सकता है….पत्रकारिता बड़ी पूंजी की खेल में फंसी हुई है, बड़े-बड़े प्लांट … विस्तार से पढ़ें

Posted in जर्नलिज्म वर्ल्ड | Leave a comment

सोनभद्र सूचना विभाग का फर्जीवाड़ा

शिव दास. जिला सूचना विभाग, सोनभद्र जनपद में कार्यरत पत्रकारों और मीडियाकर्मियों के बारे में अधिकारियों और जनता को भ्रामक जानकारी मुहैया करा रहा है। इसके पीछे जिला सूचना विभाग में नियुक्त उर्दू अनुवादक सह लिपिक नेसार अहमद और प्रभारी जिला सूचना अधिकारी मनीलाल … विस्तार से पढ़ें

Posted in जर्नलिज्म वर्ल्ड | Leave a comment

अफजल अमानुल्ला को बिहार लाने की कवायद हुई तेज

विनायक विजेता, वरिष्ठ पत्रकार. अफजल अमानुल्ला को फिर से बिहार लाने की कवायद हुई तेज पत्नी सह समाज कल्याण मंत्री परवीन देंगी शहनवाज को चुनौती ‘नमो’ से आहत मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपनी अल्पसंख्यक तुष्टिकरण के तहत कई गोपनीय अभियान में … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

भावनाओं के संमदर में कब तक हिचकोले लगाते रहेंगे!

संतोष सिंह,पत्रकार| कभी कभी मुझे अपने आप पर हंसी आती है, कभी गुस्सा भी आता है, और कभी शर्म भी महसूस होती है कि हम भी इस देश के नागरिक हैं। भारत माता की जय कहने वालों को मेरी इस … विस्तार से पढ़ें

Posted in जर्नलिज्म वर्ल्ड | Leave a comment

मिड डे मिल: भूख से मौत का निवाला बन गये मासूम

अनिता गौतम, धर्मासती गंडामन गांव के तकरीबन दो दर्जन बच्चों की अकाल मौत और उनके परिजनों की चीत्कार आम इंसान के रूह को कंपा दे रही है। इसी में राजनेताओं की बयान बाजी और अपना दामन बचाने के तरीके से … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | 4 Comments

मामला मगध विश्वविद्यालय के बारह प्रचार्यो की नियुक्ति का

विनायक विजेता, वरिष्ठ पत्रकार| पूर्व राज्यपाल के सलाहकार के इशारे पर हुई उगाही मामला मगध विश्वविद्यालय के बारह प्रचार्यो की नियुक्ति का रुपये वसूलने वाला प्रेमचंद है एक पूर्व सांसद का करीबी एलीफिस्टन सिनेमा हॉल के मालिक भी जांच के … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

बिहार की राजनीती में गठबंधन और मान-मनौव्वल

विनायक विजेता, वरिष्ठ पत्रकार. * नरेन्द्र मोदी को बिहार में चुनाव प्रचार न करने का फेक सकते हैं पासा *  इस शर्त पर गठबंधन में हो सकता है मान-मनौव्वल *  नीतीश को छोड़कर जदयू का कोई एमपी नहीं चाहता गठबंधन … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

वरुण के बहाने मोदी नाम को बचाना चाहती है भाजपा

आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर यूपी की 80 लोकसभा सीट किसी भी सियासी दल के लिए काफी महत्वपूर्ण है और यही वो कारण है कि सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी से लेकर भाजपा,कांग्रेस और बसपा सभी दल यूपी में अपनी ताकत झोखे … विस्तार से पढ़ें

Posted in जर्नलिज्म वर्ल्ड | Leave a comment