Category Archives: सम्पादकीय पड़ताल

जंगल राज का सिक्का आखिर कब तक !

अनिता गौतम बिहार विधान सभा चुनाव में चुनाव पूर्व यह बात तय हो चुकी थी कि महागठबंधन के आकड़े चाहे किसी की भी पार्टी के हो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ही होंगे । फिर जब बिहार में महागठबंधन की सरकारी बनी, … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

राहें कब आसान थी !

अनिता गौतम बिहार की राजनीति इन दिनों दो धुरी के इर्दगिर्द घूम रही है। एक ओर केंद्र में मोदी के नेतृत्व में काबिज होने के बाद बीजेपी बिहार में छोटे-छोटे दलों को साथ लेकर मजबूत लामंबदी करने में जुटी है, … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

राजदीप पर हमले से स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी भी शर्मसार हुई होगी

आलोक नंदन न्यूयार्क के मेडिसन स्कवायर गार्डन में एक तरफ ‘भारत भाग्य विधाता’ की भूमिका अख्तियार कर चुके पीएम नरेंद्र मोदी की भव्य स्वागत में प्रवासी भारतीय का हंसता-झूमता हुजूम ‘मोदी-मोदी’  के जोशपूर्ण नारे लगा रहा था, तो दूसरी ओर … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

मोदी – युग का शुभारंभ !

अनिता गौतम, ‘सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश नहीं झुकने दूंगा’, और अच्छे दिन की उम्मीदों के बीच भारत में पंद्रहवें प्रधानमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी ने देश की बागडोर संभाल ली है। नरेन्द्र मोदी पिछले दस सालों … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

सियासी हुनर की कामयाब महिलायें

विनायक विजेता, वरिष्ठ पत्रकार। बरसों पुराना जुमला है कि महिलाओं को खुद इस बात का इल्म नहीं होता कि उनमें कितनी ताकत है। और तो और, दुनिया भी इन दिनों उनके हाथ मजबूत करने की बात कर रही है। महिला … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

केजरीवाल: ईमानदारी की महत्वाकांक्षी परिभाषा!

अनिता गौतम, भारतीय राजनीति में अरविंद केजरीवाल की भूमिका शुरू से ही संदिग्ध रही है। जन लोकपाल के सबसे बड़े चेहरे अन्ना हजारे को हाशिये पर धकेल कर जिस तरह से उन्होंने आम आदमी पार्टी का गठन किया था, उससे … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

सोशल मीडिया पर बिहार की राजनीति में जंग

अनिता गौतम, सोशल मीडिया पर लड़ी जा रही राजनीतिक जंग में पिछले कुछ दिनों में रोचक बातें देखने को मिलीं। मेघना पटेल को न्यूड होकर नरेन्द्र मोदी और भाजपा का प्रचार करते देखा गया तो राष्ट्रीय जनता दल जैसी रुढ़िवादी … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और मीडिया की आजादी!

अनिता गौतम, मीडिया और राजनीति वैसे तो अलग अलग नहीं हैं, क्योंकि संवैधानिक व्यवस्था में जहां तीन स्तंभ न्यायपालिका, कार्यपालिका, और व्यवस्थापिका को स्वीकार किया गया गया है, उसी तर्ज पर मीडिया को चौथे खंभे यानि फोर्थ स्टेट के रूप … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

रैली में अपने ही बम से घायल आतंकी का नाम है ताहीर

विनायक विजेता, वरिष्ठ पत्रकार, आईएम का इनामी आतंकी तहसीन उर्फ मोनू का है रिश्तेदार , ताहिर के चाचा तकी अख्तर हैं जदयू के वरिष्ठ नेता, समस्तीरपुर जिला जदयू अल्पसंख्यक सेल के हैं अध्यक्ष, पूरे मामले में आतंकी तहसीन उर्फ मोनू … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment

अफजल अमानुल्ला को बिहार लाने की कवायद हुई तेज

विनायक विजेता, वरिष्ठ पत्रकार. अफजल अमानुल्ला को फिर से बिहार लाने की कवायद हुई तेज पत्नी सह समाज कल्याण मंत्री परवीन देंगी शहनवाज को चुनौती ‘नमो’ से आहत मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपनी अल्पसंख्यक तुष्टिकरण के तहत कई गोपनीय अभियान में … विस्तार से पढ़ें

Posted in सम्पादकीय पड़ताल | Leave a comment