नक्सल मूवमेंट को टटोलने की कोशिश (पुस्तक समीक्षा)

वी. राज बाबुल, नई दिल्ली

नक्सल मूवमेंट के कई अनछुये पहलुओं से रू-ब-रू होने का मौका कम ही मिलता है। अखबार में छपे कई शब्द सामान्य जनता के ज्ञान के परिधि के बाहर होते हैं। नक्सलाइट मूवमेंट- ए बिगेस्ट चैलेंज टू इंटरनल सेक्यूरिटी- उदय कुमार द्वारा लिखी किताब इसी दिशा में एक सार्थक कदम है। इस किताब में इस आंदोलन के शुरुआती दौर से लेकर आजतक की घटनाओं का सिलसिलेवार विवरण दिया गया है। प्रमुख नक्सल नेताओं का फोटो एवं उनके छद्म नाम का सविस्तार वर्णन किया गया है। नक्लियों का चंदा उगाही का तरीका, जबरन वसूली, मादक पदार्थों का पैदावर एवं उनका नक्सल फंड के लिए इस्तेमाल चौंकाने वाला तथ्य हैं। विदेशी ताकतों का हाथ इस आंदोलन को कौन सा दिशा प्रदान कर रही है इसकी झलक भी किताब में दिखाई देती है। दलितों एवं आदिवासियों का इस आंदोलन से लगाव एवं उनकी भागीदारी को बुनियादी ढांचा के तौर पर इस्तेमाल करना साथ ही साथ अल्पसंख्यकों का इस आंदोलन से दूरी इन सभी विषयों की सविस्तार व्याख्या की गई है। यह पुस्तर सामरिक पहलुओं पर भी नजर डालता है कि नक्सल चुनौती को कैसे खत्म किया जाये। नक्सल आंदोलन की बुनियादी जानकारी के लिए इस पुस्तक को जरूर पढ़ना चाहिये। इस पुस्तक के लेखक उदय कुमार केंद्रीय सुरक्षा बल  में एक अधिकारी है। इस विषय पर राष्ट्रीय स्तर की पत्रिकाओं में यह लिखते रहे हैं।  

editor

About editor

सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।
This entry was posted in लिटरेचर लव. Bookmark the permalink.

13 Responses to नक्सल मूवमेंट को टटोलने की कोशिश (पुस्तक समीक्षा)

  1. milly says:

    Great effort and technically rich and corrected book.

  2. sahil says:

    The book review suggest that it is amust read.How we can buy it.

  3. Vikash(95-99), Netarhat says:

    Udayji, Congrats for this nice piece of work. nice review, if happen to get an opportunity, would surely like to read the book to get an insight into this issue for the sake of full understanding.

  4. Sanjay Kumar says:

    Excellent attempt by Uday to provide a holistic picture and insightful discussion about Naxalite Movement.

  5. Chikku says:

    Nice work has been done by writer. He has a close look on naxalism

  6. Dear Uday Kumar
    Book review compels me to read said book.It appears that you have dealt with inside activities of Naxals who are really a part of our society.
    Keep it up

  7. Uday says:

    Dear Reader,

    If any body want to buy the book than please follow below link—-

    http://www.flipkart.com/naxalite-movement-uday-kumar-biggest-book-8191060701

    You can buy the book through Credit card/Debit card/Net Banking.The book will reach to your destination within 5-7 days.

  8. Mohan says:

    Nice Review about the most disturbing problem of the country.Kudo to the writer of the book.

  9. Uday says:

    Dear Reader,
    http://www.flipkart.com/naxalite-movement-uday-kumar-biggest-book-8191060701

    follow above link to purchase the book through Credit card/Debit card/Net Banking.Book will reach to your destination Within5-7 days.

  10. Rishi says:

    Nice book.

  11. Dr Prakash says:

    Uday,Good job done.

  12. SURAJ SINGH says:

    BEGINNING OF NEW THOUGHTS

  13. Chikku says:

    Fantastic work

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>