पटना में डिस टीवी उपभोक्ता परेशान

पटना में डिस टीवी उपभोक्ता परेशान हैं . परेशानी का कारण है कि पटना स्थित डिस केयर सेंटर सर्विस के नाम पर धोखा देता है. इतना ही नहीं उच्च स्तर पर शिकायत के बावत पूछे जाने पर केयर सेंटर से यह कहा जाता है कि जहां मर्जी शिकायत कर लो. बात पुनाईचक के एक उपभोक्ता की है. विश्वेश्वरैया भवन के ठीक पीछे  डिस टीवी का एक कनेक्शन लगया गया है.

2 जनवरी 2010 का कनेक्शन है. महज सवा साल में उपभोक्ता की परेशानी का आलम देखिए. जनवरी 2011 में उपभोक्ता को मकान बदलना पड़ा. वह भी सिर्फ एक मकान बाद ही नया मकान था .उपभोक्ता ने मकान बदलने के साथ ही डिस केयर सेंटर से टेलिफोन पर एंटिना को रिइंस्टाल करने का अनुरोध किया.लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई. बार बार टेलिफोन करने पर जब अनुरोध नहीं सुनी गई तो पटना के कर्पूरा हाउस में स्थित डिस केयर सेंटर में जाकर शिकायत की गई. तब कहीं दो दिन बाद जाकर एंटिना को रिइंसटाल किया गया.साथ में सर्विस चार्ज भी 170 रुपये वसूल किया गया. जबकि रिइंस्टाल होने में 15 दिन से ऊपर लगा दिए गए. लेकिन उस उपभोक्ता की परेशानी यहीं खत्म नहीं हुई.  

महज एक महीने बाद ही एंटिना ने सिगनल. पकड़ना बंद कर दिया. एक दो दिन प्रतिक्षा के बाद उपभोक्ता ने फिर से कर्पूरा हाउस स्थित डिस केयर सेंटर में 7 मार्च 2011 को शिकायत दर्ज कराय़ी .लेकिन अब तक शिकायत दूर करने की कोशिश नहीं की गई. इस बीच जब जब फोन पर और कर्पूरा हाउस जाकर बत की जाती है तो सर्विस चार्ज का प्रेशर उपभोक्ता पर बनाया जाता रहा. काफी दौड़ भाग और अनुरोध करने पर 20 दिन बाद एंटेना को रिएडजस्ट करने के लिए दो स्टाफ उपभोक्ता के घर पहुंचा एंटेना को एडज्सट करने की जगह पहले सर्विस चार्ज ही मांगने लगा.

उपभोक्ता ने जब यह कहा कि सर्विस चार्ज तब न दिया जाएगा जब टीवी से डिस कनेक्ट हो जाएगा. उपभोकता के ऐसा कहने पर कंप्लेन अटैंड करने आए एक व्यक्ति ने आफिस में किसी धीरज नाम के व्यक्ति से मोबाइल पर बात की. और फिर कुछ सामान लाने का बहाना बनाकर वहां से चला गया और आज 2अप्रैल तक कोई सुनवाई इस शिकायत पर नहीं की गई. इस बीच दो बार कर्पूरा हाउस स्थत दफ्तर में उपभोक्ता चक्कर भी लगा चुका है.

डिस टीवी का यह रवैया तब था जब वर्ल्डकप के महत्वपूर्ण मैच सहित टीम
इंडिया का फाइनल भी खेला गया.इतना नहीं यह डिस टीवी उपभोक्ताके यहां
गृहसदस्य के रुप में  मुख्यधारा से जुड़ा एक टीवी जर्नलिस्ट भी रहता है. जो घर में खबर नहीं देख पाने का नुकसान और तनाव झेल रहा है.  ऊपर से लगभग पूरे एक महीने का सबस्क्रिपस्न फी भी मुफ्त में बरबाद गया. वर्ल्डकप जैसा
अंतरराष्ट्रीय इवेंट भी देखने से पूरे परिवार को वंचित कर दिय गया.

एक उपभोकता होने के कारण मैं डिस टीवी के बड़े अधिकाऱियों से पूछना चाहता हूं कि ये तमाम तरह के हर्जाने के लिए कौन जिम्मेदार होगा. किस बल पर बेहतर सर्विस का दावा करता है डिस टीवी समूह. कम से कम बिहार में नन प्रेफेशनल लोगों को केयर सेंटर में बैठा कर पटना के उपभोक्ताओं को परेशान क्यों किया जा रहा है. क्या इस मामले को लेकर उपभोकता फोरम में जाना ही अंतिम विकल्प है उपभोक्ताओं के लिए.  

परेशान उपभोक्ता का नाम है…. लखनदेव प्रसाद.

पता …..विश्वेश्ररैया भवन के पीछे,  ड्रीमलाईट गली ,पुनाईचक, पटना.

editor

About editor

सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।
This entry was posted in रूट लेवल. Bookmark the permalink.

One Response to पटना में डिस टीवी उपभोक्ता परेशान

  1. रवि says:

    सब एक थैले के चट्टे बट्टे हैं. नए कनेक्शन के पीछे लगे रहेंगे ले लो. सर्विस पर रोने लगते हैं. एयरटेल का मेरा कनेक्शन बन्द है. केयर सेंटर पर 6 मर्तबा फोन कर चुका हूँ कि मेरे मोबाइल से बारंबार कनेक्शन एक्टिवेट करने का एसएमएस और आटोमेटिक फोन रिक्वेस्ट बंद कर दो, मगर कोई सुनता ही नहीं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>