कोई और विश्वनाथ प्रताप सिंह को दुहरा सकता है?

दयानंद पांडेय

तो क्या प्रणव मुखर्जी या कोई और सही विश्वनाथ प्रताप सिंह को दुहरा सकता है ? हालांकि इसकी तुरंत कोई संभावना नहीं दिखती । पर आशंका भरपूर है और इस बात की ज़रुरत भी । प्रणव मुखर्जी के अंदर प्रधानमंत्री बनने की इच्छा तो बहुत दिनों से है । बस जो नहीं है उन के अंदर वह है साहस , बगावत का साहस । बाकी तो सब कुछ है उन के अंदर और देश की राजनीतिक स्थितियां भी उन के मनोनुकुल हैं ।
यह वालमार्ट , यह जनलोकपाल , यह चिदंबरम , यह राजा , यह कलमाडी वगैरह के नज़ारे देख कर दुष्यंत कुमार का शेर याद आता है कि , ‘अब तो इस तालाब का पानी बदल दो , इस कंवल के फूल कुम्हलाने लगे हैं ।’ और कि यह सब देख कर अब जाने क्यों विश्वनाथ प्रताप सिंह की याद भी आने लगी है । और सोच रहा हूं कि आज की तारीख में कांग्रेस में कोई एक भी साहसी राजनीतिज्ञ क्यों नहीं है ? एक भी राजनारायन जैसा हनुमान क्यों
 नहीं है जो इस अनीति की लंका में आग लगा दे ? सोचिए कि साठ हज़ार करोड़ के बोफ़ोर्स घोटाले में अभूतपूर्व और प्रचंड बहुमत पाने वाले राजीव गांधी की सरकार एक विश्वनाथ प्रताप सिंह की बगावत में बह गई थी । और अब लाखो-लाख करोड़ के एक नहीं अनेक घोटाले-घपले हमारे सामने रोज-ब-रोज   आते जा रहे हैं तो यह जोड़-तोड़ के बूते चलने वाली गठबंधन सरकार की चूलें फिर भी कोई हिलाने वाला क्यों नहीं हमारे  पास है ? इंदिरा गांधी ने बांग्ला देश की विजय , प्रीवीपर्स, बैकों के राष्ट्रीयकरण, गरीबी हटाओ जैसे लोकप्रिय नारे के बावजूद जब तानाशाही और फ़ासि्ज़्म की बयार बहाई तब एक लोकनायक हमारे बीच उपस्थित हुआ । और आमार दीदी, तोमार दीदी, इंदिरा दीदी ज़िंदाबाद के मिथ को तोड़ कर उन की तानाशाही ऊखाड फ़ेंका था । 1977 के चुनाव के तुरंत बाद खिंची गई रघु राय की वह फ़ोटो अब भी आंखों में बसी हुई झूल रही है जिस में एक
 जमादार झाडू लगा रहा है और इंदिरा गांधी की फ़ोटो वाली पोस्टर उस के झाडू में समाई कूड़ेदान के हवाले हो रही है । खैर , जनता पार्टी की सरकार आई और अपनी ही बार-बार की मूर्खताओं और खुराफ़ातों की कढ़ाई में चढ कर बलि चढ गई । इंदिरा जी फिर लौट आईं सत्ता में । उन का दुलारा राजकुमार हवाई जहाज गलत ढंग से उड़ाने की ज़िद में जब मौत से दोस्ती कर बैठा तब वह अपने जहाज चलाने वाले बेटे को राजनीति में  ले आईं । वह आया और बेमन से आया पर जल्दी ही मिस्टर क्लीन बन कर छा गया । देश का दुर्भाग्य देखिए कि खलिस्तान आंदोलन को कुचल कर रख देने वाली इंदिरा जी की हत्या हो गई । और यह उन का जहाज उडाने वाला लड़का ही प्रधान मंत्री बन बैठा । और कुर्सी संभालते ही बोल दिया कि जब बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती हिल जाती है ।

इदिरा जी की हत्या के बाद सिखों के प्रति लोगों के मन में क्षोभ तो था ही राजीव के इस बयान के बाद उन के चापलूस दरबारियों ने इस का यह अर्थ लगा लिया कि सिखों को मारो और देश भर में सिखों को ज़िंदा जलाया जाने लगा । उन्हें लूटा जाने लगा। गुजरात में नरेंद्र मोदी ने तो बाद में मुस्लिमों को घेर घेर कर मरवाया , सबक सिखाया गोधरा का । कहा गया कि सरकार ने दंगे करवाए । पर इस का देशव्यापी पहला सबक अपने कांग्रेसी राजीव गांधी ने ही सिखाया । मोदी पर आज आरोप लगाने वाले कांग्रेसी यह शायद भूल गए हैं । लेकिन चैनलों पर जब बहस होती है गुजरात दंगों को ले कर तो भाजपाई कांग्रेसियों को सिख दंगा याद दिलाना नहीं भूलते। खैर यह दूसरा विषय है अभी । लेकिन तभी एक घटना और घटी थी । यह आज के परेशान प्रणव मुखर्जी जो इंदिरा सरकार में वित्त मंत्री रहे थे । और जैसे कि कभी कामराज और द्वारिका प्रसाद मिश्र ने इंदिरा गांधी को बच्ची मान कर गलती कर अपनी राजनीतिक हत्या कर ली थी , वही गलती प्रणव मुखर्जी ने इंदिरा जी की हत्या के बाद कर ली। उसे आज तक भुगत रहे हैं । अमूमन वित्त मंत्री या फिर गृह मंत्री को प्रधान मंत्री के बाद नंबर दो मानने की एक परंपरा सी रही है । तो तब प्रणव मुखर्जी ने अपने नंबर दो होने की आड़ में दबी जबान प्रधान मंत्री पद की दावेदारी कर दी । राजीव गांधी और उन की मित्र मंडली चौंक गई । और राजीव के राज में प्रणव मुखर्जी किनारे लगा दिए गए । खैर, अगर इंदिरा गांधी खलिस्तान आंदोलन को कुचलने के फेर में शहीद हुईं तो राजीव गांधी लिट्टे को लपेटने के चक्कर में शहीद हुए। लोकसभा के ऐन चुनाव में । बहरहाल चुनाव बाद चुनाव न लड़ने वाले नरसिंहा राव की न सिर्फ़ लाटरी खुल गई वह प्रधान मंत्री हुए और अल्पमत की सरकार को निर्बाध चलाने का हुनर भी दिखा गए । शिबू सोरेन, अजीत सिंह जैसे घटक उन के काम आए । और इस सब के बीच जो बड़ी घटना घटी वह यह कि मनमोहन सिंह को नरसिंहा राव ने धो-पोछ कर निकाला और वित्त मंत्री बना दिया। और मनमोहन सिंह ने आर्थिक उदारीकरण की नदी बहा दी । वह आर्थिक उदारीकरण की नदी अब समुद्र से मिल कर समुद्र में तब्दील है । हम आप आज मंहगाई, भ्रष्टाचार की नाव के साक्षी बने गोते खा रहे हैं । पर इन नावों की संख्या निरंतर बढती जा रही है । आप याद कीजिए नरसिंहा राव को। तमाम घटनाएं घट जाती थीं पर  वह बोलते नहीं थे। अटल विहारी बाजपेयी उन्हें चुहुल में मौनी बाबा कहने लग गए  और अब मनमोहन सिंह को मौनमोहन कहने ही लगे हैं । नरसिंहा राव गए तो मिली जुली सरकारों का ज़माना आ गया । अटल विहारी, देवगौडा, गुजराल आदि के बाद कांग्रेस लौटी तो सोनिया गांधी की मनाही के बाद मनमोहन सिंह के प्रधान मंत्री बनने के कयास लगने लगे ।  प्रणव मुखर्जी फिर मिस टाइम हो गए। बोल पड़े कि  मनमोहन को तो उन्होंने रिज़र्व बैंक का गवर्नर नियुक्त किया था , फिर घपला हो गया । लेकिन सोनिया की शतरंजी बुद्धि ने , चेक एंड बैलेंस की रणनीति में  मनमोहन पर चेक प्वाइंट के मद्देनज़र प्रणव मुखर्जी को मंत्रिमंडल में बैठा दिया । और मनमोहन ने उन्हें सर-सर कह कर उन का इगो मसाज़ भी किया और साथ ही उन को चेक एंड बैलेंस के लिए चिदंबरम को उकसा दिया । अब इसे प्रणव मुखर्जी का बर्दाश्त कहिए,
 धैर्य कहिए या कुछ और कि वह इतने दिनों से  आसूसी-जासूसी के बावजूद चिदंबरम और मनमोहन को निरंतर न सिर्फ़ झेल रहे हैं , मौके बेमौके सरकार के लिए संकटमोचक भी बने ही रहते हैं । अपने ज़मीन से जुड़े होने और चुनावी ठोंक-पीट की गणित का अनुभव वह आज़माते रहते हैं । और जब तब ज़्यादा हो जाता है कूटनीतिक चालें भी चल कर चिदंबरम जैसों की नकेल भी कस ही देते हैं । चिदंबरम की नाव के छेद दुनिया को  दिखा ही देते हैं । इस बहाने वह मनमोहन की चूडियां भी जब तब कसते रहते हैं । लेकिन सब कुछ के बावजूद, सारी लानत-मलामत के बावजूद वह हस्तिनापुर की निष्ठा से बंधे भीष्म पितामह की तरह लाचार दिखते हैं । विश्वनाथ प्रताप सिंह की भूमिका को दुहराने से कतरा जाते हैं । तय मानिए कि तमाम भ्रष्टाचार, मंहगाई, जनलोकपाल और आतंकवाद को ले कर ऐन कांग्रेसियों के चेहरे पर छाई लाचारी साफ पढ़ी जा सकती है। अधिकांश इस सब से उकताए हुए हैं । पर सब बेबस हैं । हस्तिनापुर की निष्ठा से बंधे हुए । महाभारत में भी भीष्म पितामह को कोई समझाने वाला नहीं था कि हस्तिनापुर की निष्ठा से बंधे रहने का मतलब यह हरगिज़ नहीं है कि आप धृतराष्ट्र और दुर्योधन की अनीति से भी बंधे रहें । अंधे आदमी के बताए रास्ते पर चलते ही रहें ।  और इस समय प्रणव मुखर्जी समेत उन तमाम कांग्रेसियों को भी कोई समझाने वाला नहीं है कि देश और जनता रहेगी तभी कांग्रेस और नेहरु परिवार भी रहेगा । तभी हस्तिनापुर की उन की निष्ठा भी दिखेगी । तब तो एक विदुर भी कोई था यह सब संकेतों में ही सही कहने वाला । अब कोई एक विदुर भी नहीं दिखता।सवाल फिर भी छूटा रह जाता है कि क्या प्रणव मुखर्जी या कोई और सही विश्वनाथ प्रताप सिंह की भूमिका को दुहराने की कवायद या दुस्साहस कर सकता है ? और यह भी कि विश्वनाथ प्रताप सिंह तो मंडल -कमंडल में फंस कर एक असफल प्रधानमंत्री साबित हुए और फ़ुसफ़ुसा कर रह गए। अपनी लिफ़ाफ़ा शीर्षक कविता, ‘ पैगाम उन का/ पता तुम्हारा/ बीच में फाडा मैं ही जाऊंगा!’ की तर्ज़ पर लिफ़ाफ़ा की गति पा कर फट कर रह गए ।

 पर  अगला बागी भी क्या विश्वनाथ प्रताप सिंह की तरह लिफ़ाफ़ा न बन पाए यह भी कैसे सुनिश्चित हो , यह भी एक यक्ष प्रश्न है । पर यह प्रश्न तो अब समाधान चाहता ही है कि एक विश्वनाथ प्रताप सिंह की दरकार कब पूरी होगी ? क्या यह समाधान प्रणव मुखर्जी ही देर सवेर बनेंगे या कोई और ? क्यों कि मनमोहन सिंह न तो अच्छे प्रधानमंत्री साबित हुए हैं न अच्छे अर्थशास्त्री। समूचे देश को जिस तरह उन्हों ने  मंहगाई और भ्रष्टाचार की भट्ठी में झोंका है और बेहिसाब झोंका है उस का कोई और प्रतिकार या कोई और रास्ता देश ढूंढ रहा है। क्योंकि  वह अटलविहारी बाजपेयी और थे जो अपनी ही पार्टी के मुख्यमंत्री को राजधर्म पालन करने की फटकार लगा देते थे पर यह मनमोहन सिंह तो राजा, कलमाडी या चिदंबरम जैसों का भ्रष्टाचार धृतराष्ट्र बन कर देखता रहता है और चुप रहता है इस डर से कि कहीं प्रधानमंत्री  की नौकरी न चली जाए । और परमाणु समझौता इस डर से सरकार दांव पर लगा कर करता है कि अमरीका कहीं नाराज न हो जाए। वालमार्ट लाने की ज़िद इस लिए करता है कि अमरीका नाराज न हो जाए। अब तो लोग कहने भी लगे हैं कि मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री के तौर पर नहीं वर्ल्ड बैंक के नौकर की तरह काम करने लगे हैं। देश और जनता उन की प्राथमिकता में नहीं है। दरअसल चुनाव बिना लड़े अगर कोई प्रधानमंत्री बनेगा, जिस  की जवाबदेही जनता के प्रति नहीं होगी, वह ऐसे ही काम करेगा।
आप में से कोई अगर राहुल में देश का प्रधानमंत्री ढूंढता है तो वह अपनी आंख का मोतियाबिंद उतार ले। राहुल गांधी अपने पिता राजीव गांधी की तरह बातें तो अच्छी-अच्छी कर लेते हैं पर राजनीतिक ज़मीन की हकीकत उन की समझ से बहुत दूर है । वह उत्तर प्रदेश में तो आ कर भडकाऊ भाषण झोंक जाते हैं और पूछ जाते हैं कि आप को गुस्सा क्यों नहीं आता ? पर केंद्र के बूते मंहगाई और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर  उन की ज़ुबान को काठ मार जाता है , लकवा मार जाता है । उन को किसी ‘परम होशियार’ ने समझा दिया है कि उत्तर प्रदेश ही उन्हें प्रधानमंत्री बना सकता है । सो वह अपनी सारी प्रतिभा और ऊर्जा उत्तर प्रदेश में उडेल रखे हैं । बिना यह सोचे कि नरसिंहा राव, देवगौडा, गुजराल से लगायत मनमोहन सिंह तक उत्तर प्रदेश के बिना ही प्रधानमंत्री पद की मलाई गट कर ली है तो भैया आप काहें उत्तर प्रदेश की धूल  फांकने में निपट रहे हो ? और बंदोबस्त देखिए कि अमेठी जाते हैं तो अपने सांसद संजय सिंह को साथ लेते नहीं। सिद्धार्थ नगर जाते हैं तो वहां के सांसद जगदंबिका पाल को साथ ले जाना भूल जाते हैं । और चले हैं उत्तर प्रदेश की राजनीति में कांग्रेस को ज़िंदा करने। जिस आदमी में इतनी भी राजनीतिक समझ न हो उस से आप इतनी बडी उम्मीद भला कैसे लगा सकते हैं?
हां, अगर आप अन्ना हजारे में बदलाव की कोई आहट ढूंढ रहे हैं तो भी दिन में तारे देखने की कसरत में लग गए हैं। यह ज़रुर है कि जनता का ज्वार उन के आंदोलन में दिखा है। पर यह जानिए कि जनता का यह ज्वार बेलगाम मंहगाई और भ्रष्टाचार की उपज है न कि अन्ना हजारे के आंदोलन की कमाई है यह। वह तो जनता ने अन्ना नाम का एक कंधा ढूंढा है जिस पर वह सर रख कर अपना गुस्सा, अपनी विवशता का इज़हार कर सके। पर यह  सब अन्ना के वश का है नहीं ।

कारण कई  हैं , एक तो वह अतार्किक बातें करते हैं । अहं ब्रह्मास्मि की भी गंध वह बार-बार देते रहते हैं। निरपेक्ष नहीं हैं। तराजू कई हैं उन के पास और घटतौली के वह आदी हैं। नहीं जब मुंबई में उत्तर प्रदेश या बिहार के मज़दूर पिटते हैं तब उन की ज़ुबान खामोश क्यों हो जाती है ? सांस तक नहीं लेते ? उन के सहयात्रियों पर आरोप प्रत्यारोप, अंतर्विरोध की अनंत फेहरिस्त  अलग है। दूसरे राजनीतिज्ञ भी नहीं है वह न ही राजनीतिक सोच है। न ही कूट्नीतिक कौशल है उन के पास और यह लिख कर रख लीजिए कि जैसा जनलोकपाल वह चाहते हैं वैसा जनलोकपाल किसी सूरत में यह सरकार तो क्या कोई भी सरकार नहीं बना पाएगी। और न यह बनवा पाएंगे। झुनझुना बजाना और बात है , काम हो जाना और बात है ।
वैसे भी इस देश में अगर कोई बदलाव होगा या हो सकता है तो राजनीतिक तौर तरीकों से ही संभव है। लोकनायक जय प्रकाश नारायन ने जो बदलाव किया वह राजनीतिक ढंग से ही संभव हुआ था। हालांकि उन के राजनीतिक आंदोलन में कई गैर राजनीतिक लोग भी शामिल थे तो भी तौर तरीके सब राजनीतिक ही थे। तो अब भी कोई बदलाव संभव है तो राजनीतिक तौर पर ही संभव है । अब अलग बात है कि राजनीतिक पार्टियां और संसदीय  राजनीति दोनों ही बहुसंख्यक जनता के बीच अपनी साख गंवा बैठी हैं । तो भी दुष्यंत कुमार फिर याद आ जाते हैं: ‘

कौन कहता है आकाश में सुराख नहीं हो सकता/ एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारो!’  इस लिए भी कि राजनीति हमेशा एक संभावना है । तो क्या प्रणव मुखर्जी या कोई और सही संभावना बनेंगे ? या यह संभावना शून्य है ? यह देखना दिलचस्प होगा । यह भी कि बिल्ली के गले घंटी कौन बांधेगा ? यानी साहस कौन
 दिखाएगा। बदलाव की आग तो समूचे देश में दिख रही है। अब इस बदलाव का नेतृत्व किस के हाथ जाता है, जाता भी है कि नहीं क्या पता ? क्या पता प्रणव मुखर्जी ही साहस दिखा जाएं ? यह कौन जानता है ?

दयानंद पांडेय
5/7डालीबाग, लखनऊ
o9335233424
09415130127
dayanand.pandey@yahoo.com

editor

About editor

सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।
This entry was posted in पहला पन्ना. Bookmark the permalink.

One Response to कोई और विश्वनाथ प्रताप सिंह को दुहरा सकता है?

  1. पहले तो ‘ पैगाम उन का/ पता तुम्हारा/ बीच में फाडा मैं ही जाऊंगा!’ के लिए धन्यवाद। समाधान तो राजनीति और राजनीतिक तरीके ही हैं। अन्ना, राहुल या किसी से उम्मीद का कोई कारण दिखता नहीं हमें भी। और प्रणव, इनसे तो कुछ उम्मीद करने का दिखने या दिखावे वाला भी कोई कारण नहीं दिखता। मनमोहन सिंह विश्व बैंक के नौकर हैं, यह बात तो 12-15 साल से राजीव दीक्षित कहते आए थे। …कुल मिलाकर अच्छा लेख।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>