लाशों पर राजनीति कर रही है बीजेपी- संजय सिंह

तेवरआनलाईन, पटना

कहते है जब कहीं हादसा और विपत्ती आती है तो दुश्मन भी कदम से कदम मिलाकर हाथ बटाते है लेकिन पटना के गांधी मैदान के हादसे के बाद बीजेपी ने मदद तो दूर हादसे में मरे हुए लोगो के लाश पर राजनीति करने लगी। ये राजनीति भी इस स्तर की राजनीति लिखने वाले चाणक्य भी शर्मा जाए। ये बाते कही जेडीयु के प्रवक्ता संजय सिंह ने।

संजय सिंह ने भाजपा के इस मांग पर कड़ी आपति जताई है कि हादसे कि नैतिक जिम्मेवारी लेते हुए मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी को इस्तीफा दे देना चाहिए। संजय सिंह ने बीजेपी से सवाल पुछा कि इस तरह के हादसे क्या मध्य प्रदेश और गुजरात में नही हुए है क्या उन राज्यों में हुए हादसों से लोगों की मौत नही हुई ? क्या वहां के मुख्यमंत्रियों ने इस्तीफा दिया?  क्यों नही बीजेपी ने वहां के मुख्यमंत्रियों इस्तीफा लिया ? क्या वहां के अस्पतालों में भीड नही बढी थी? ये तो वही बात हो गई कि अपना मिठा मिठा और दुसरो का तीखा.तीखा।

संजय सिंह ने आगे कहा कि बीजेपी नेता सुशील मोदी कि यादाश्त चली गई है। मैं उन्हे याद दिलाना चाहता हुं कि जब मध्य प्रदेश में मंदिर में अगस्त 2014  को सतना जिला स्थित चित्रकूट में कामतनाथ मंदिर में भगदड़ मचने से दर्जनभर से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी और दूसरी घटना अक्टूबर 2013 को मध्यप्रदेश के दतिया जिला स्थित रतनगढ़ माता मंदिर में दर्शन करने जा रहे श्रद्धालुओं की भीड़ में मची। भगदड़ में करीब 115 लोगों की मौत हो गई थी। इस हादसे में लगभग 100 अन्य लोगों भी घायल हो गए थे। ऐसी घटनाएं तो गुजरात में आय दिन होती रहता है तब तो सुशील मोदी मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उस समय के गुजरात के तत्कालिन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का इस्तीफा तो नही मांगा। और जब बिहार के मुख्यमंत्री  जीतनराम मांझी घटना के बाद एक्शन ले रहे है तो ये उनको बर्दाश्त भी नही हो रहा है। मेरा एक सुझाव है बीजेपी नेता सुशील मोदी से कि वो अब च्वनप्राश खाया करे य़ादाश्त मजबूत रहेगी।

This entry was posted in नोटिस बोर्ड. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>