लालू ने किया साप्ताहिक अखबार बेबाक जुबान का विमोचन

बेबाक जुबान का विमोचन करते राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद

मजीठिया पर पीएम नरेंद्र मोदी चुप क्यों ?  बेबाक जुबान, पटना से निकलने वाली एक साप्ताहिक पत्रिका ने मजीठिया मसले को उठाया है। नेट वर्ल्ड में मजीठिया आंदोलन बहुत तेजी से चल रहा है। मीडिया और मीडिया से जुड़ी खबरों को भड़ास ने  हमेशा एक आंदोलन की तरह समेटा है और मजीठिया के मसले पर तो अग्रदूत की भूमिका में रहा है। अपने पहले अंक से ही बेबाक जुबान इस मसले के साथ भड़ास के साथ खड़ा है। भारतीय प्रेस वर्ल्ड में इस्तेमाल होने वाले नाजायज हथकंडो को  के खिलाफ लगातार कदमताल करने के लिए हम प्रतिबद्ध है, और इस प्रतिबद्धता को अंत तक निभाएंगे। देश को फूल बनाने की परंपरा है, तभी तो हाऊस फूल है। लोगों को फूल बनाकर ही तो आप हाऊस फूल करते हैं। जब हाऊस फूल है  तो मजीठिया की हकमारी क्यों हो रही है ?

लाइट, कैमरा, एक्शन, पेज नंबर 11 पर फिल्मीं शब्दों पर संस्कृतिवाद के नाम पर खुद को फिल्म सेंसर बोर्ड के मालिक मुख्तार पहलाज निहलानी ने जो कैंची चलाने की बात है उसके परिणामों और इरादों को समझने और समझाने की पहल की गई है। आमिर खान, महेश भट्ट, राजकुमार हिरानी, किरण राव, विद्या बालन ने केंद्रीय सूचना एंव प्रसारण राज्यमंत्री राज्यवर्धन राठौर से मिलकर “निहलानी कैंची’’ के खिलाफ अपनी बात रख दी है। लेकिन एक संकेत मिल गया है कि भविष्य में फिल्म अभिव्यक्ति पर भी खतरा है। इस खतरे के  खिलाफ भी फिल्म जगत की आवाज में बुबाक जुबान भी पूरी शिद्दत से शामिल है। मुसोलिनी और हिटलर की टोलियों ने वहां की फिल्मों को अपने अधिकार में ले लिया था। सवाल उठता है कि उन दोनों तानशाहों ने ऐसा क्यों किया था और अब पहलाज निहलानी की यह कैंची क्या उसी दशा को प्राप्त करने की दिशा में एक कदम नहीं है ?

पिछले कुछ समय से गांधी जी को लेकर देश के माहौल को दिग्भ्रमित करने की उग्र कोशिशें की गई है। पेज नंबर पांच, मील का पत्थर, में,  गांधी पर हमला सनक या साजिश ? को नापने तौलने की कोशिश की गई है। मार्टिन लूथर किंग, नेल्सन मंडेला जैसे जन नेताओं को लंगोटी और लाठी में प्रभावित करने वाले गांधी को अंग्रेजों का एजेंट बताया जा रहा है। गांधी जी जन प्रतिनिधि थे, गुलाम नरमुंडो का कारंवा उनके पीछे-पीछे चलता था, आजादी के लिए। बंदूको और तोपों से लैस अंग्रेजी आकाओं से अपने लोगों को बचाते हुये आजादी की लड़ाई को उन्होंने पूरे दम और समझदारी के साथ आगे बढ़ाया। पेज नंबर पांच मील का पत्थर पर गांधी के खिलाफ जारी विषवमन की पड़ताल की गई है। बेबाक जुबान का विमोचन पटना में राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने किया है। इस मौके पर राजद के युवा नेता तेजप्रताप भी मौजूद थे। इसकी प्रति हासिल करने के लिए कांटेक्ट कर सकते हैं।

बेबाक जुबान

A-101, 2nd Floor, Patna Super Market, Fraser Road, Patna (Bihar)

Phone No. 9570828765

editor

About editor

सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।
This entry was posted in जर्नलिज्म वर्ल्ड. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>