तेजस्वी का मुख्यमंत्री बनने का सपना कभी नहीं होगा पूराः मंगल पांडेय

पटना। स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि राजद नेता तेजस्वी यादव का मुख्यमंत्री बनने का सपना कभी पूरा होने वाला नहीं है। उनकी उम्मीदों पर उन्हीं के सहयोगी पलीता लगा रहे हैं। पहले हम और अब कांग्रेस ने उन्हें अहंकारी और खुदगर्ज बता कर यह जाहिर कर दिया कि महागठबंधन के सहयोगियों को उनका नेतृत्व स्वीकार नहीं है। यह बात दीगर है कि उनके माता-पिता उन्हें भावी मुख्यमंत्री के तौर पर प्रोजेक्ट कर रहे हैं, लेकिन जिन बैशाखियों के भरोसे राजद यह ख्वाब देख रहा है वह सभी बैशाखी ही कमजोर है। यही नहीं राजद के कई नेता भी तेजस्वी के रवैये से खुश नहीं हैं। इसका खुलासा भी कुछ दिनों पहले हो चुका है। विक्षुब्ध विधायक भी बहुत जल्द राजद को बाय-बाय कर एनडीए का दामन थामेंगे।

मंगल पांडेय ने कहा कि जगजाहिर है कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद और उनकी पत्नी ने जिस प्रकार बिहार की जनता ठगने का काम किया, अब उनके पुत्र तेजस्वी यादव जनता के साथ-साथ अपने सहयोगियों को ठगने का प्रयास कर रहे हैं। राजद परिवार के लिए यह कोई नई बात नहीं है। कभी लालू का खासमखास रहे वामपंथी साथी कई चुनावों से उनसे दूरी बनाये हुए हैं और ये राजद का नाम लेने से भी परहेज करते हैं। मंगल पांडेय ने कहा कि पिछले दो दशक से राजद की बैशाखी बनी कांग्रेस की स्थिति बिहार में ‘जल बिन मछली’ वाली है। इसलिए अपमानित होकर ही सही राजद के कंधे पर सवार होकर चुनावी वैतरणी पार करना चाहती है। महागठबंधन के साथी भले ही एकजुट होकर एनडीए को हटाने की बात कर रहे हों, लेकिन सूबे की जनता चुनाव बाद ऐसे मौसमी दलों की सियासी दुकानें हमेशा के लिए बंद करा देगी। उन्होंने कहा कि तेजस्वी यादव कहते हैं कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का राज भ्रष्टाचारियों का राज है, लेकिन वे यह भूल गये कि उनका पूरा परिवार आकंठ भ्रष्टाचार में डूबा हुआ है। एनडीए सरकार को तेजस्वी से सर्टिफिकेट लेने की जरूरत नहीं है।

editor

About editor

सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।
This entry was posted in पहला पन्ना. Bookmark the permalink.

Comments are closed.