कोरोना पर नियंत्रण के लिये हर जिले में डेडीकेटेड टीम लगायी जाय: नीतीश

पटना। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुख्य सचिव दीपक कुमार के साथ कोरोना संक्रमण एवं बाढ़ की अद्यतन स्थिति की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव को निर्देश देते हुये कहा कि कोरोना पर नियंत्रण के लिये हर जिले में अस्पतालों की व्यवस्था के लिये डेडीकेटेड टीम लगायी जाय ताकि मरीजों के अस्पताल आने के बाद उन्हें किसी प्रकार की कठिनाई न हो।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि अस्पतालों में स्थापित कंट्रोल रूम के माध्यम से भर्ती मरीजों से प्रतिदिन बात कर उनके स्वास्थ्य की स्थिति, दवा की उपलब्धता एवं उनकी समस्याओं के संबंध में जानकारी ली जाय। किसी मरीज द्वारा यदि कोई समस्या बतायी जाती है तो तत्काल उसका निराकरण कराया जाय। उन्होंने निर्देश दिया कि होम आइसोलेशन में रहने वाले लोगों की भी लगातार मॉनिटरिंग की जाय, उन्हें किसी प्रकार की चिकित्सा सुविधा की जरूरत होने पर अविलंब सुविधा उपलब्ध करायी जाय। उनका मनोबल भी लगातार बनाये रखने की जरूरत है।

मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव को निर्देश दिया कि यह सुनिश्चित किया जाय कि मरीजों को अस्पताल में भर्ती होने में कोई समस्या न हो। उन्होंने कहा कि अस्पतालों में चिकित्सा सुविधा, दवा एवं अन्य उपकरणों, भोजन तथा साफ-सफाई पर भी विषेष ध्यान देने की आवश्यकता है ताकि मरीजों को किसी भी तरह की परेशानी न हो।

मुख्यमंत्री ने आर. टी. पी. सी.आर. टेस्ट की संख्या बढ़ाने का निर्देष दिया और कहा कि सभी जिलों में भी आर. टी. पी. सी.आर. टेस्ट की सुविधा उपलब्ध कराने की दिशा में स्वास्थ्य विभाग ठोस प्रयास करे। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि  आवश्यकतानुसार कम्युनिटी किचेन और राहत केन्द्रों की संख्या बढ़ायी जाय और वहां सोशल डिस्टेंसिंग के नार्म्स का पूर्ण अनुपालन हो। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन की टीम बेहतर काम कर रही है। उन्होंने कहा कि संकट की इस घड़ी में जिला प्रशासन पूरी तैयारी रखे।

editor

About editor

सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।
This entry was posted in पहला पन्ना. Bookmark the permalink.

Comments are closed.