मेरा मुझसे अवैध सम्बन्ध है (कविता)

 

मेरी आत्मा और मेरा वुजूद, दो स्वतंत्र अस्तित्व है !
और शायद दोनों में अवैध सम्बन्ध है !
नहीं…शायद मेरा हीं मुझसे अवैध सम्बन्ध है !

मेरी आत्मा मेरे वुजूद को,
सहन नहीं कर पाती ।
और मेरा वुजूद सदैव,
मेरी आत्मा का तिरस्कार करता है।

दो विपरीत अस्तित्व एक साथ मुझमें बस गया,
आत्मा और वुजूद के झगड़े में उलझ गया।
एक साथ दोनों जीवन जी रही,
आत्मा और वुजूद को एक साथ ढ़ो रही।

मेरा मैं,
न तो पूर्णतः आत्मा को प्राप्त है,
न हीं वुजूद का एकाधिकार है,
और बस यही मेरा मुझसे अवैध सम्बन्ध है !

एक द्वंद, एक समझौता, जीवन जीने का अथक प्रयास,
कानून समाज की नज़र में, यही तो वैध सम्बन्ध है।
दो वैध रिश्तों का, कैसा ये अवैध सम्बन्ध है,
स्वयं मेरी नज़र में, मेरा मुझसे अवैध सम्बन्ध है।

 नितीश कुमार, इन्द्रपुरी, पटना

editor

About editor

सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।
This entry was posted in लिटरेचर लव. Bookmark the permalink.

14 Responses to मेरा मुझसे अवैध सम्बन्ध है (कविता)

  1. editor mahoday,
    upar jo rachna aapne preshit ki hai aur iske lekhak ki jagah nitish kumar, indrapuri, patna likha hai. ye kavita meri likhi hui hai aur mere blog par preshit bhi hai. aise kaise aap kisi ki kavita kisi ke naam se prakashit kar dete?
    kripya aap mere is link par aakar mere blog dekh leyen, meri purani kavita jo mai 22 march 2009 ko post ki hun…

    http://lamhon-ka-safar.blogspot.com/2009/03/blog-post_22.html

    aur apne aise sajjan mitra ko bhi kah de ki agar kavita pasand aai thee to asli lekhak ka naam dena chahiye thaa, na ki kisi aur ki kavita ko apna naam dena chahiye thaa. in kuchh logon ki wajah se vishwasniyata khoti hai.
    aapke uttar ki prateeksha aur uchit kaarwaai ki apeksha rahegi.

    jenny shabnam
    http://lamhon-ka-safar.blogspot.com/

  2. editor alok nandan says:

    Adarniy jenny shabnam ji,
    Ab koi kavi aapake pass kvita bhejata ho to aap usaki visvasniyata per sandeh nahi kar sakate….itan to maryada ka palan karna hi hoga….kisi se yeh puchana ki jo kavita aapane bheji hai kaya use aapane khud hi likha hai thori dristta hogi….bus isi mansikata ka shikar huya hai tewaronline. Nitish ji ne kavita bheji aur unase puche bina ki is kavita ko aapane likha hai ya kisi aur ne hamane chap diya. Aapaka comments aane ke bad tewaronline ne nithis se sampark kiya…unka kahana hai ki yeh kavita unhone hi likhi hai…..unhone apane blog per ise laga raka hai…..ab tewar ke pass do raste hain….ya to is post ko hi hata dun…ya phir yeh sabit kiya jaye ki yeh kavita kisaki hai…. yeh nitish ji ka link hai, jis per 26-september 2010 ka post kiya gaya tha. http://nitishcraze.blogspot.com/2010/09/blog-post_26.html. aapake blog ko bhi hamne dekha hai. 22 march 2009 ki posting hai. is lihaj se aap sahi kah rahi hai…..Nitish ji kanhi chook kar rahe hain….aur yadi aisa ve kar rahe hai to unhe rokana chahiye….aapane is oor dhilaya isake liye hum aabhar wayqt karate hai…kavita waqi mein bahut hi achi hai…..
    with regard
    alok nandan

  3. alok ji,
    nitish ji ne mujhe mail kiya hai jise main yahan preshit kar rahi hun. unhone kya likha hai aap padh lein aur main kya kaaryawaai karun khud ab mujhe bhi samajh mein nahin aa raha. nitish ji jaise mansikta waale logon par dukh hota hai. ye zaruri nahin ki sabhi log kavita likhen lekin shauk hai to koshish karen na ki dusre ki rachna ko apna naam dekar samman arjit karen. koi na koi khasiyat sabmein hoti hai bas uski pehchan karni hoti hai. jab ye sajjan blog bhi chala rahe to nihsandeh wahan dusron ki bhi rachnaauen hongi jise unhone apna naam diya hoga. agar unmein zara bhi sajjanta hogi to sabhi rachnaaon mein unke rachnaakaaron ka naam likh dein. is post ko yaha se na hatayen taaki aur bhi log jo inki galat pravriti ke shikar hue honge un tak baat pahunch jaayegi. aapse aagrah hai ki in mahoday se gujaarish zarur karen ki unki aisi harkat dusre ko kitna dukh pahunchati hai aur jab sach saamne aata hai to aise logo ko sirf apmaan milta hai. apna hunar jo bhi ho use viksit karen, na ki aisi ochhi harkat.
    aapka bahut aabhar.
    jenny

    ____________________________

    Enquiry

    Inbox
    X

    Reply
    |
    nitish cool
    to me

    show details 18:26 (14 hours ago)

    dear mam
    mujhe tewar online ke editor se malum hua ki
    mujhse mera awaidh sambandh hai wo aapki likhi hui kavita hai jo maine hi us site pe diya hai..
    i want to inform u that i am not a genuine poet..
    waise to mai koi kavita likhta hi nahi hon aur kavi kavi likhta bhi hon to wo kisi kavita ko rewrite kar ke..
    mai “Report ya Features”
    aksar likhta hon,,

    but sorrow to know that it was ur poem..

    if u have any complain plz contact me on
    9534711912,,
    9308278467

  4. editor editor says:

    जेनी शबनम जी,
    नीतीश जी के मेल को पढ़ने के बाद अब कोई संशय नहीं रहा गया है…आप बेहतर लिखती हैं…तो मैं यकीन के साथ कह सकता हं कि आप एक बेहतर इंसान भी हैं…इस पूरे प्रकरण को अब समाप्त करते हैं। इस विश्वास के साथ कि अब कोई किसी की रचना को अपने नाम से इस्तेमाल नहीं करेगा….आपने जो साहस का परिचय दिया है उसके लिए तेवरआनलाईन आभार प्रकट करता है। हमें हमारी गलती ठीक करने का मौका मिला। हां, इस दौरान आपको जो कष्ट हुआ उसके लिए हम क्षमाप्रार्थी हैं….उम्मीद है एक नेक कवि इन बातों को भूल कर अपने रचना कर्म में रत रहेगा।

    सादर आलोक नंदन

    इस गलती के लिए तेवरआनलाईन अपने पाठकों से भी क्षमा मांगता है, साथ ही यह घोषणा करता है कि -मेरा मुझसे अवैध सम्बन्ध है- कविता को जेनी शबनम जी ने लिखा है। मुख्य पृष्ठ पर से नीतीश कुमार का नाम नहीं हटा रहे हैं, ताकि लोगों के बीच यह संदेश जाता रहे कि दूसरों की रचनाओं को अपने नाम से कहीं प्रेषित न करें।
    संपादक, तेवरआनलाईन

  5. nitish says:

    thanks Jenny Ji
    It was really my fault. & i am glad to know ki aapne hamari galti ko sach se awgat to karai..
    par mai itna sab kuch bilkul socha bhi nahi tha par mujhe meri ek galti ne kafi kuch sikhne ka mauka diya hai..
    its my inner request to all the readers of tewaronline that plz read
    Nitish as Jenny.
    whatever the mistakes i have commited i am really shamed by it.

  6. nitish says:

    with a sorrow throat i would like to say that
    now no more articles,report or feature i will write on
    http://www.tewaronline.com
    untill i forget the whole incidence.
    i know it is really very hard to overcome from such a hard moment..
    i will start writing to this site only when i will forget..
    till than
    good bye readers,,,,,good bye tewar
    To Jenny Sabnam
    Plz Forgive Me..

  7. आलोक जी,
    मेरी रचना मुझे वापस मिल गई, बहुत आभार| और ये भी ख़ुशी की बात है कि नीतीश जी ने अपनी गलती स्वीकार कर ली| उम्मीद और यकीन है कि नीतीश जी अब ऐसी गलती अनजाने में भी न करेंगे| मेरा मकसद उनका अपमान करना नहीं बल्कि उनको उनकी गलती का एहसास कराना था, और इसी लिए मैंने उनका मेल यहाँ सार्वजनिक किया| आप चाहें तो यहाँ से ये सभी हटा सकते हैं| नीतीश जी एक इमानदार लेखन करें और आपका तेवरआनलाईन सदैव प्रगति करे, शुभकामनाएं!

  8. nitish ji,
    insaan se kabhi jaane kabhi anjaane galti ho jaati hai, parantu us galti ko sweekaar karna aur punah na dohraana sabse jyaada zaruri hai. aap mere putrawat honge, isliye main chahungi ki aap bhawishya mein kuchh bhi aisa na karen ki aatmglaani ho ya fir khud ki nazar mein giren ya samman khoyen.
    aapne kaha ki main aapki reporting padhun, kya aapka ye magazine web patrika hai? aap apne magazine “INFORMANIA” keliye likhte rahein, mujhe khushi hogi.
    aap apne blog par se meri rachna hata dein bahut meharbaani hogi.
    shubhkaamnaayen.

  9. Archana says:

    Kavita ke ek- ek shabd dil ki awaaj hote hain, kahania dimag ke.Nitish ji, kahania churain par kavita nahi……………

  10. I like reading your website for the reason that you can constantly bring us fresh and cool things, I think that I should at least say a thank you for your hard work.

    - Rob

  11. Ron Tedwater says:

    Really nice post,thank you

  12. I like the first point you made there, but I am not sure I could pratcially apply that in a postive way.

  13. दूसरों की कविता अपने नाम से छपवाना बहुत बड़ी बेशर्मी है। झूठे मान -सम्मान के लालच में कुछ लोग यह अपराध ख़्कर रहे हैं । ऐसे लोगों के नाम व्यापक स्तर पर प्रचारित करना ज़रूरी है ।

  14. pawan upadhyay says:

    मेरा मैं,
    न तो पूर्णतः आत्मा को प्राप्त है,
    न हीं वुजूद का एकाधिकार है,
    और बस यही मेरा मुझसे अवैध सम्बन्ध है !
    ……………………………………………………………….aatm-manthan yogy panktiyan aur nihaayat hi vichaarneey srijan hai aap ka..sadhuwaad mam…..aaj link milne ke baad kafi kuchh parha lekin pratikriya nahi de payaa..mafi chahta hu iske liye…asha hai maaf karengi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>