धड़-पकड़ कर रेलवे ने 8 करोड़ 70 लाख रुपये वसूले

1
27

तेवरआनलाईन, हाजीपुर

पूर्व मध्य रेल को टिकट चेकिंग एवं बिना बुक किए सामान लेकर यात्रा करने वाले यात्रियों की धर-पकड़ से चालू वित्तीय वर्ष में अप्रैल से जुलाई, 2010 तक 8 करोड़ 17 लाख रूपए की आय प्राप्त हुई है, जो पिछले वित्तीय वर्ष की इसी अवधि में प्राप्त आय रूपए 6 करोड़ 39 लाख की तुलना में लगभग 22 प्रतिशत अधिक है ।

विदित हो कि पूर्व मध्य रेल द्वारा बिना टिकट या बिना उचित प्राधिकार के साथ यात्रा पर रोकथाम के लिए लगातार अभियान चलाये जा रहे हैं ताकि बिना टिकट/उचित प्राधिकार के यात्रा करने वाले यात्रियों को निरूत्साहित किया जा सके । ऐसे यात्रियों से एक ओर जहां टिकट लेकर यात्रा करने वाले यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है वहीं दूसरी ओर रेल राजस्व की भी हानि होती है ।

पिछले माह (जुलाई, 2010) में टिकट चेकिंग अभियान के दौरान पूर्व मध्य रेल द्वारा लगभग 67 हजार लोगों को बिना टिकट या बिना उचित प्राधिकार के यात्रा करते हुए पकड़ा गया जिनसे 2.44 करोड़ रूपए वसूल किए गए जो पिछले वित्त वर्ष के जुलाई महीने में टिकट चेकिंग से प्राप्त आय 1.33 करोड़ रूपए की तुलना में रिकार्ड 83.66 प्रतिशत अधिक  है । जांच अभियान के दौरान जुलाई महीने में ही बिना बुकिंग किए माल ले जाने के लगभग 27 हजार मामले सामने आए जिनसे लगभग 15.07 लाख रूपए की वसूली की गयी जो पिछले वर्ष इसी अवधि में बिना बुकिंग माल से प्राप्त आय 12.50 लाख रूपए की तुलना में 20.62 प्रतिशत अधिक है । 

पूर्व मध्य रेल के समस्तीपुर मण्डल में टिकट चेकिंग के दौरान बिना टिकट/उचित प्राधिकार के साथ यात्रा करने के लगभग 58 हजार मामले प्रकाश में आए। बिना टिकट पकड़े गए इन यात्रियों से पिछली अवधि की तुलना में 51 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 2 करोड़ 13 लाख से भी अधिक की राशि वसूल की गई । इस दौरान बिना बुकिंग के सामान ले जाने के भी 28696 मामले सामने आए जिनसे 14.63 लाख रूपए की वसूली की गयी ।

दानापुर मण्डल में भी बिना टिकट यात्रियों की धर-पकड के लिए चलाए गए अभियान का सकारात्मक परिणाम सामने आया है । मंडल में अप्रैल से जुलाई, 2010 तक 33997 यात्रियों को बिना टिकट यात्रा या अनाधिकृत रूप से उच्चतर श्रेणी में यात्रा के आरोप में पकड़ा गया और उनसे 1.18 करोड़ रूपयों की वसूली की गयी है । इस अवधि में बिना बुकिंग के सामान ले जाने के 18 हजार मामलों में 13.57 लाख रूपए की वसूली की गयी ।

सोनपुर मण्डल में बिना टिकट यात्रियों की धर-पकड़ के 56388 मामलों में 2 करोड़ से अधिक रूपए की वसूली की गयी । यह पिछले वर्ष की तुलना में क्रमशः 34 एवं 39 प्रतिश्त अधिक है । इस अवधि में सोनपुर मण्डल में पिछले वर्ष की तुलना में 19 प्रतिशत की वृद्धि के साथ बिना बुकिंग के सामान ले जाने के 8562 मामलों में 4.35 लाख रूपए की वसूली की गयी ।

     इसी तरह मुगलसराय मण्डल में इन चार महीनों में लगभग 39634 लोगों को बिना टिकट/उचित प्राधिकारी के तहत् यात्रा करते हुए पकड़ा गया और उनसे दण्डस्वरूप 1.45 करोड़ रूपए की वसूली हुई । जुर्माने की कुल रकम पिछले वर्ष की इसी अवधि में वसूल किए गए 1.39 करोड़ रूपए की तुलना में लगभग 17.34 प्रतिशत अधिक है । धनबाद मण्डल में भी टिकट चेकिंग का प्रभाव देखने में आया है । इस मंडल टिकट चेकिंग के दौरान 24280 मामलों में 75 लाख रूपयों की वसूली की गयी । यह पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 11.43 प्रतिशत अधिक है । इस अवधि में धनबाद मण्डल में बिना बुकिंग के सामान ले जाने के 5176 मामलों में 2.73 लाख रूपए वसूल किए गए ।

Previous articleमुंबई की भट्ठियों में झुलसता बचपन
Next articleमणिपुर में बच्चों के लिए कोई भी स्थान सुरक्षित नहीं
सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।

1 COMMENT

  1. He ist dieses ein großer Pfosten. Kann ich einen Teil auf ihm auf meinem Aufstellungsort benutzen? Ich würde selbstverständlich mit Ihrem Aufstellungsort verbinden, also konnten Leute den vollen Artikel lesen, wenn sie zu wünschten. Dankt jeder Weise.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here