पूरी कायनात का है मेरा सपना (कविता)

0
25

सपने देखना और सपने बुनना, हमें भी आता है प्रजापति …
सिर्फ तुम्हें नहीं .
फूटपाथ पर
होने का अर्थ
ये नहीं है न्याय के देवता,
की हमें सपने नहीं आते .
सपने देखना सिर्फ तुम्हारी मिल्कियत नहीं .
तिजोरियों के स्वामी .
हमें भी हासिल है हक़ .
की सपने देखू
बेहतर दुनिया और बेहतर मनुष्य होने के सपने .
उजाडो तुम बार -बार — उजाडो मेरे सपनों के
घोसलों को
कभी प्रदूषण निवारण के नाम पर
कभी शहर की खूबसूरती के नाम पर .
कभी न्याय के देवताओं के हुक्म पर
कभी विकास की गंगा बहाने के बहाने
सत्ता, शासन और तिजोरी का मिलन पर्व
भले ही मनाया जा रहा हो पूरी दुनिया में .
भले ही दुनिया का सबसे बड़ा हैवान .
सभ्यताओं का पाठ पढ़ा रहा हो हमें .
हमें सपने देखने और सपने बुनने से
नहीं रोक सकता वो
क्युं कि मेरा सपना सिर्फ अपना सपना नहीं है .
पूरी कायनात का है मेरा सपना
मनुष्यता की हिफाज़त में

………..सुनील दत्ता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here