17 C
Patna
Wednesday, October 28, 2020
Home Authors Posts by editor

editor

801 POSTS 13 COMMENTS
सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।

जाति मिटे तो गरीबी हटे

0
डॉ. वेदप्रताप वैदिक                  जातीय गणना के इरादे को देश सफल चुनौती दे रहा है| जबसे 'सबल भारत' ने 'मेरी जाति हिंदुस्तानी' आंदोलन छेड़ा है,...

भारत को वेश्या बनाया हथियार बनाने वाली इजरायली कंपनी राफेल ने

0
जोयल स्टाईन द्वारा भारतीयों का नस्लीय अपमान  पति और पत्नी के बीच का विवाद है?  देवेंद्र मक्कड़, न्यू जर्सी ऐसा लगता है कि सभी भारतीय बुद्धिजीवी,...

डा. कमल बोस को साहित्य साधना पुरस्कार

0
तेवरआलाइन, पटना नाटक, आलोचना और हिन्दी भाषा के विविध पक्षों पर लगातार लेखन करने वाले  संत जेवियर्स कालेज, रांची के हिन्दी विभाग के अध्यक्ष डा....

जागरण के प्रसार विभाग में बड़े घोटाले की जांच शुरू

2
राकेश शर्मा, हरियाणा दोस्तों जागरण में फर्जीवाड़े से शेयर धारकों के हिस्से को गोलमाल करने में यदि प्रबंधन बोर्ड के सदस्य पीछे नहीं हैं तो...

…Oh! still I love you ( a story)

1
Alok nandan I am not Voltaire; and you are not Marquise Du Chatelet. But to me you are not less than Chatelet, although we have...

मीना के तीन बेटों को लापता किया व दो को मारने...

0
आठ लाख रुपये का चेक मीना से झपट चुका है सिर्फ अंधों और बहरों के लिए है सुशासन तेवरआनलाइन, पटना पटना के डीएम कोठी में रहने वाले...

युवा मीडिया व जन संचार उद्यमी सोनू त्यागी को

1
तेवरआनलाइन, मुंबई युवा मीडिया व जन संचार  उद्यमी  सोनू त्यागी को   उद्यमी वर्ग में विश्व व्यापार की प्रमुख संस्था वर्ल्ड कान्फेडरेशन  ऑफ़ बिज़नस द्वारा  बेहद सम्मानित...

हरिशंकर राढ़ी को दीपशिखा वक्रोति सम्मान

0
इष्टदेव सांकृत्यायन, नई दिल्ली कहते हैं बोया पेड़ बबूल का तो आम कहां से खाय! अगर आदमी ढंग का हो, तो उसे अपमान भी ढंग...

निष्कर्ष (कहानी)

6
परिचय: पल्लवी वर्मा ग्रास रुट के कंटेट को उठाकर मनोवैज्ञानिक तरीके से कथाएं बुनती चली जाती हैं। फैंटेसी के साथ रियलिज्म का अदभुत रोमांटिक...

सौर शक्ति से चलने वाली लैपटाप मात्र 500 रुपये में

1
विश्व पटल पर भारत की एक और उपलब्धि अश्निनी कुमार, नई दिल्ली अब लैपटाप एरा गांवों की ओर भागने के लिए तैयार है। छोटे-छोटे कस्बे और...