महिला राजद ने लिया तेजस्वी को मुख्यमंत्री बनाने का संकल्प

पटना । राष्ट्रीय जनता दल के राज्य कार्यालय परिसर में राजद महिला प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित ‘‘संकल्प सभा’’ में राज्यभर से आयी महिलाओं ने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव को मुख्यमंत्री बनाने का संकल्प लिया।
राजद महिला प्रकोष्ठ के प्रदेष अध्यक्ष डाॅ0 उर्मिला ठाकुर की अध्यक्षता में आयोजित संकल्प सभा को संबोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा की आगामी विधान सभा चुनाव मे पार्टी महिलाओं को सम्मानजनक सीट देने की कोषिष करेगी। उन्होने कहा कि पिछले विधान सभा चुनाव में राजद ने 10 महिलाओं को टिकट दिया था जो सभी विजयी रहे।उन्होंने कहा कि पहले कुछ गिने-चुने परिवार की महिलाएं हीं राजनीति में सक्रिय रहती थीं। लालू जी ने एक पत्थर तोड़ने वाली महादलित समुदाय से आने वाली समता देवी को देष के सर्वोच्च सदन में भेजकर वंचित और ग्रामीण पृष्ठभूमि से आने वाली महिलाओं के बीच राजनीतिक चेतना पैदा करने का काम किया। आज उसी का परिणाम है कि इतनी बड़ी संख्या में ग्रामीण परिवेश से जुड़ी महिलाएं भी राजनीति में सक्रिय हैं।
उन्होंनें कहा कि कुछ लोग महिलाओं के वोट बैंक को बपौती समझ रहे हैं।बालिका गृह मुजफ्फरपुर के अनाथ बच्चियों के साथ नीतीष सरकार ने मानवता को
शर्मसार किया। मजबूर बालिकाओं के साथ राक्षस की तरह व्यवहार किया जाता है। लड़कियों को अफसर और नेताओं के पास भेजा जाता था। गर्भपात कराकर नशबंधी किया जाता था। हमलोगों ने उचित न्याय के लिए दिल्ली तक लड़ाई लड़ी तब सुप्रीम कोर्ट से न्यायालय मिला। यहां सुषासन नाम का कोई चीज नहीं है।
ये सरकार अपराधियों को संरक्षण देती है। इंसाफ दिलाने के बजाय आरोपी को बचाया जाता है। महिलाओं को, चिकित्सा और षिक्षा को बर्बाद कर दिया गया है।
इस अवसर पर प्रकोष्ठ के प्रदेष अध्यक्ष डाॅ0 उर्मिला ठाकुर द्वारा विजय प्रतीक के रूप में तेजस्वी प्रसाद को चाँदी का मुकुट और चादर देकर सम्मानित किया गया। इसके साथ ही प्रकोष्ठ द्वारा पार्टी के प्रदेष
अध्यक्ष जगदानन्द सिंह, पूर्व केन्द्रीय मंत्री डाॅ0 क्रान्ति सिंह,प्रदेष के प्रधान मंहासचिव आलोक कुमार मेहता, प्रदेष प्रवक्ता चितरंजन गगन, विधायक रेखा पासवान, सीमा स्वीति हेम्ब्रम, पूर्व विधान पार्षद आजाद
गाॅधी, को षाल देकर सम्मानित किया गया।
संकल्प सभा को सम्बोधित करते हुए प्रदेष अध्यक्ष जगदानन्द सिंह ने कहा की राज्य भर से आये महिलाओं ने जब आज तेजस्वी जी को मुख्यमंत्री बनाने का संकल्प लिया है तो फिर कोई भी षक्ति उन्हे मुख्यमंत्री बनने से नही रोक सकता। हिला प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय अध्यक्ष डाॅ0 कान्ति सिंह ने कहा कि महिलाओं को जो सम्मान राष्ट्रीय जनता दल ने दिया है वैसा किसी अन्य दलों के द्वारा नही दिया गया। यह लालू यादव की देन है कि ग्रामीण परिवेष और
पिछडे़ समुदायों से आने वाली महिलाये बड़ी संख्या में विधायिका और कार्यपालिका में प्रतिनिधित्व कर रही है।
संकल्प सभा को श्रीमती मंजू सिंह, प्रो0 राजमणि, श्रीमती नमीता निरजसिंह, रेणु यादव, अनिता भारती, सीमा गुप्ता, गीता देवी, बुसरा साहिन,रेखा चैधरी, अंकिता यादव एवं अर्चना देवी ने संम्बोधित किया।कार्यक्रम का संचालन श्रीमती ववीता यादव ने किया। कार्यक्रम के प्रारम्भ
में विधायक रेखा पासवान द्वारा आगत अतिथियों के सम्मान में स्वागत भाषण किया गया।

प्रकाशनार्थ/प्रसारणार्थ——————————————महिला राजद  तेजस्वी को मुख्यमंत्री बनाने के लिए लिया संकल्प पटना । राष्ट्रीय जनता दल के राज्य कार्यालय परिसर में राजद महिला प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित ‘‘संकल्प सभा’’ में राज्यभर से आयी महिलाओं ने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव को मुख्यमंत्री बनाने का संकल्प लिया।  राजद महिला प्रकोष्ठ के प्रदेष अध्यक्ष डाॅ0 उर्मिला ठाकुर की अध्यक्षता में आयोजित संकल्प सभा को संबोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा की आगामी विधान सभा चुनाव मे पार्टी महिलाओं को सम्मानजनक सीट देने की कोषिष करेगी। उन्होने कहा कि पिछले विधान सभा चुनाव में राजद ने 10 महिलाओं को टिकट दिया था जो सभी विजयी रहे।उन्होंने कहा कि पहले कुछ गिने-चुने परिवार की महिलाएं हीं राजनीति में सक्रिय रहती थीं। लालू जी ने एक पत्थर तोड़ने वाली महादलित समुदाय से आने वाली समता देवी को देष के सर्वोच्च सदन में भेजकर वंचित और ग्रामीण पृष्ठभूमि से आने वाली महिलाओं के बीच राजनीतिक चेतना पैदा करने का काम किया। आज उसी का परिणाम है कि इतनी बड़ी संख्या में ग्रामीण परिवेश से जुड़ी महिलाएं भी राजनीति में सक्रिय हैं।   उन्होंनें कहा कि कुछ लोग महिलाओं के वोट बैंक को बपौती समझ रहे हैं।बालिका गृह मुजफ्फरपुर के अनाथ बच्चियों के साथ नीतीष सरकार ने मानवता कोशर्मसार किया। मजबूर बालिकाओं के साथ राक्षस की तरह व्यवहार किया जाता है। लड़कियों को अफसर और नेताओं के पास भेजा जाता था। गर्भपात कराकर नशबंधी किया जाता था। हमलोगों ने उचित न्याय के लिए दिल्ली तक लड़ाई लड़ी तब सुप्रीम कोर्ट से न्यायालय मिला। यहां सुषासन नाम का कोई चीज नहीं है।ये सरकार अपराधियों को संरक्षण देती है। इंसाफ दिलाने के बजाय आरोपी को बचाया जाता है। महिलाओं को, चिकित्सा और षिक्षा को बर्बाद कर दिया गया है। इस अवसर पर प्रकोष्ठ के प्रदेष अध्यक्ष डाॅ0 उर्मिला ठाकुर द्वारा विजय प्रतीक के रूप में तेजस्वी प्रसाद को चाँदी का मुकुट और चादर देकर सम्मानित किया गया। इसके साथ ही प्रकोष्ठ द्वारा पार्टी के प्रदेषअध्यक्ष जगदानन्द सिंह, पूर्व केन्द्रीय मंत्री डाॅ0 क्रान्ति सिंह,प्रदेष के प्रधान मंहासचिव आलोक कुमार मेहता, प्रदेष प्रवक्ता चितरंजन गगन, विधायक रेखा पासवान, सीमा स्वीति हेम्ब्रम, पूर्व विधान पार्षद आजादगाॅधी, को षाल देकर सम्मानित किया गया।संकल्प सभा को सम्बोधित करते हुए प्रदेष अध्यक्ष जगदानन्द सिंह ने कहा की राज्य भर से आये महिलाओं ने जब आज तेजस्वी जी को मुख्यमंत्री बनाने का संकल्प लिया है तो फिर कोई भी षक्ति उन्हे मुख्यमंत्री बनने से नही रोक सकता। हिला प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय अध्यक्ष डाॅ0 कान्ति सिंह ने कहा कि महिलाओं को जो सम्मान राष्ट्रीय जनता दल ने दिया है वैसा किसी अन्य दलों के द्वारा नही दिया गया। यह लालू यादव की देन है कि ग्रामीण परिवेष औरपिछडे़ समुदायों से आने वाली महिलाये बड़ी संख्या में विधायिका और कार्यपालिका में प्रतिनिधित्व कर रही है।संकल्प सभा को श्रीमती मंजू सिंह, प्रो0 राजमणि, श्रीमती नमीता निरजसिंह, रेणु यादव, अनिता भारती, सीमा गुप्ता, गीता देवी, बुसरा साहिन,रेखा चैधरी, अंकिता यादव एवं अर्चना देवी ने संम्बोधित किया।कार्यक्रम का संचालन श्रीमती ववीता यादव ने किया। कार्यक्रम के प्रारम्भमें विधायक रेखा पासवान द्वारा आगत अतिथियों के सम्मान में स्वागत भाषण किया गया।

editor

About editor

सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।
This entry was posted in पहला पन्ना. Bookmark the permalink.

Comments are closed.