भारत की अति पुण्य-भूमि है (कविता)

0
30

अरविन्द सिंह मोनू,

भारत की अति पुण्य- भूमि है

मोक्ष की गति द्वार ही है

अहिल्या को जहाँ जीवन मिला

बुध को जहाँ ब्रह्म-ज्ञान मिला

वह गौतम- स्थान यहीं है

वह गया – धाम यहीं है

शिव-शम्भू जहाँ स्वयं बिराजे

जहाँ पुरुषोत्तम श्री राम पधारे

बैजनाथ की नगरी यहीं है

शरथ की जनकपुरी यहीं है

भारत की अति पुण्य-भूमि है

मोक्ष की गति द्वार यहीं है

जहाँ विश्व विजयी आकर हारा

जिसके सपूत ने अंग्रेजों को ललकारा

वह वीर-भूमि मगध यहीं है

वह वीर-भूमि सारण यही है

जहा रश्मिरथी की रचना हुई

जहाँ बिस्मिल्लाह की शहनाई बजी

दिनकर का सिमरिया घाट यहीं है

उस्ताद का डुमराव यहीं है

भारत की अति पुण्य-भूमि है

मोक्ष की गति द्वार यहीं है

जय हो जय हो अपना बिहार!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here