माँ की याद (कविता)

2
13

नितीश कुमार, पटना

बचपन की यादें वक्त के फंदे पर कभी झूलती नहीं
माँ की बातें और लोरियां मुझे कभी भूलती नहीं

तसवीरें देखता हूँ जो दीवारों पर कब से लटकी हैं
माँ संग बैठी है ये देख आँखें टपकी हैं

बेकार की बात नहीं मैं सच कह रहा हूँ
माँ की यादों के संग मैं बह रहा हूँ

माँ को गले लगाये हुए एक और तस्वीर है
ये सब तसवीरें ही तो मेरी जागीर है

कभी नहीं खाली हो सकता खामोशी का संमंदर
मुझे विरासत में मिला था सुहाना सा मंजर

हाथ पकड़ा हुआ था माँ ने मेरा तब भी
हाथ पकड़ा हुआ है माँ ने मेरा अब भी

चार दीवारें हैं उस पर डाली हुयी छत है
माँ का ये कमरा उसका जीवन रुपी रथ है

सदा दी है दुआ, बेटा हमेशा आगे बढ़ना
माँ तुम्हें कभी रुलाया हो तो मुझे माफ़ करना।

2 COMMENTS

  1. aishi kavita kafi samay baad padhne ko mili hai…
    aapne bilkul matritv prem ko fir se jinda kar diya hai….
    mai samajhta hon ki yaad to sab karte hai par maa ki yaad
    sabon ki aakhon me aanshu la hi deti hogi….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here