प्रबंधन में रेलकर्मियों की भागीदारी (प्रेम) समूह की तृतीय बैठक संपन्न

0
23

तेवरआनलाइन, हाजीपुर

मध्य रेल मुख्यालय हाजीपुर के सभाकक्ष में महाप्रबंधक श्री वरूण भरथुआर की अध्यक्षता में ‘प्रबंधन में रेलकर्मियों की भागीदारी‘ (प्रेम) समूह की वर्ष 2011 की  तीसरी बैठक संपन्न  हुई । अपने अध्यक्षीय संबोधन में महाप्रबंधक महोदय ने सभी सदस्यों का स्वागत करते हुये कहा कि रेल संगठन को अधिक प्रभावशाली बनाने तथा प्रबंधन में रेलकर्मियों की सक्रिय भागीदारी से जहां कर्मचारियों में संगठन में शामिल होने की भावना जागृत होती है वहीं रेल के कार्यों की समीक्षा जमीनी स्तर पर हो पाता है । हम उन क्षेत्रों की पहचान कर पाते हैं जो हमें सीधे दृष्टिगत नहीं हो पाती है एवं सदा उपेक्षित रह जाता है । उन्होंने कहा कि इस बैठक में अन्य विषयों के अलावा विशेषकर रेलयात्रियों को दी जाने वाली सुविधायें एवं संरक्षा कार्यों की गुणवत्ता में सुधार हो ऐसे तरीकों को पहचानना एवं उसकी चर्चा करना प्रेम ग्रुप का मुख्य उद्देश्य होता है । उन्होंने बताया कि पूर्व मध्य रेल द्वारा यात्री सुविधा को ध्यान में रखते हुये वित्तीय वर्ष 2011-12 में स्पेशल ट्रेनों का परिचालन, महत्वपूर्ण ट्रेनों में अस्थायी रूप से अतिरिक्त कोच भी लगाए गये जिसके फलस्वरूप एक ओर जहां यात्रियों को अधिक सुविधाजनक यात्रा उपलब्ध कराया गया वहीं दूसरी ओर पूर्व मध्य रेल की आय में भी वृद्धि दर्ज की गई । श्री भरथुआर ने पूर्व मध्य रेल की वाणिज्यिक उपलब्धियों पर भी प्रकाश डाला।

आज की बैठक में मुख्यतः गुणवत्ता, रेलवे दुर्घटनाओं में कमी, उत्पाद और सेवा तथा दावों में कमी जैसे विषय पर विस्तृत चर्चा की गयी ।  उत्पाद और सेवा क्षेत्र के गुणवत्ता में वृद्धि, राजस्व में बढ़ोत्तरी हेतु मार्केटिंग प्रयत्न, समग्र परिवहन के लिए नीतियों पर चर्चा एवं ज्ञान और कौशल के विकास के साथ मूल्यों के प्रति प्रतिबद्धता हेतु उपयुक्त वातावरण की सृष्टि जिसमें कुछ नया करने की शुरूआत, मूल्यों के विस्तार का प्रयत्न एवं संवादों/सूचनाओं के आदान-प्रदान, स्टेशनों पर साफ-सफाई जैसे बिन्दुओं सहित अन्य कई मुद्दों पर विस्तृत चर्चा हुई । इस अवसर पर उप महप्रबंधक (सामान्य) श्री ए.के. झा द्वारा पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन भी दिया गया।

बैठक में अपर महाप्रबंधक सह मुख्य विद्युत इंजीनियर श्री आर.के. सिंह, प्रमुख मुख्य इंजीनियर श्री मनोज कुमार, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी (निर्माण/दक्षिण) श्री जी.एस.तिवारी, मुख्य सिगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर श्री एच.के.अग्रवाल, मुख्य यांत्रिक अभियंता श्री के.पी.राव, मुख्य परिचालन प्रबंधक सह मुख्य वाणिज्य प्रबंधक श्री दीपक छाबड़ा, मुख्य कार्मिक अधिकारी श्री जे.एस.पी. सिंह, वित्त सलाहकार एवं मुख्य लेखाधिकारी भावारंजन राय, भंडार नियंत्रक            श्री राजेन्द्र सिंह, मुख्य चिकित्सा निदेशक डा. पी.एस. प्रसाद, वरिष्ठ उप महाप्रबंधक श्री बी.पी.गुप्ता, मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री नीरज अम्बष्ठ महाप्रबंधक महोदय के सचिव श्री विनम्र मिश्रा, सहित मुख्यालय के अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे ।

बैठक में ईस्ट सेन्ट्रल रेलवे कर्मचारी यूनियन के अध्यक्ष श्री के.पी.सिंह, महासचिव श्री एम.एन. वाजपेयी, अपर महासचिव श्री डी.के.पाण्डेय, सहायक महासचिव श्री एस.एन.पी. श्रीवास्तव, पूर्व मध्य रेल प्रमोटी आॅफिसर्स एशोसिएशन के अध्यक्ष श्री जे.पी.सिंह,  ईसीआरपीएफए के महासचिव श्री संजय कुमार ने अपने विचार रखे । बैठक के अंत में धन्यवाद ज्ञापन उप महाप्रबंधक (सा.) श्री अजीत कुमार झा द्वारा किया गया ।

Previous articleजिय रजा कासी !
Next articleविरोधाभाषों में घिरी महिला पत्रकारिता
सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here