बच्चों के अधिकारों को लेकर शिक्षा मंत्री को सौंपा गया मांग पत्र

0
27

पटना बिहार बाल आवाज मंच एवं चाइल्ड राइट्स एंड यू ( क्राई ) की ओर से बच्चों को मिलने वाले पाठ्यपुस्तक को लेकर चलाये गये हस्ताक्षर अभियान के बाद मंगलवार ( 22-8-2017 ) को संग्रहित 50 हजार हस्ताक्षर के साथ मांगपत्र शिक्षा मंत्री कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा को सौंपा। शिक्षा मंत्री के उनके आवास पर जाकर क्राई एवं मंच के एक प्रतिनिधिमंडल ने मंत्री श्री वर्मा को यह मांग पत्र सौंपा है।  प्रतिनिधिमंडल में शामिल सदस्यों ने मंत्री को बताया कि चालू शैक्षणिक सत्र के 4 महीना बाद भी सरकारी स्कूल के बच्चों को पाठ्य पुस्तक नहीं मिला है। करीब 30 प्रतिशत बच्चों को पुराने पाठ्यपुस्तक उपलब्ध कराया गया है। इससे गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रभावित हो रही है। प्रतिनिधिमंडल के साथ बातचीत में शिक्षा मंत्री ने कहा है कि अगले शैक्षणिक सत्र से बच्चों को पाठ्यपुस्तक समय पर मिले। इसके लिए ठोस कदम उठाया जाएगा। उन्होंने प्रतिनिधिमंडल को बताया कि शिक्षा में गुणात्मक सुधार लाने को लेकर लोगों से भी सुझाव मांगा गया है। प्रतिनिधि मंडल के द्वारा शिक्षा मंत्री को सौपें गये मांग पत्र में कहा गया है कि शैक्षणिक सत्र के शुरू होने के तुरंत बाद सरकारी स्कूल के बच्चों को पाठ्य पुस्तक उपलब्ध करा दिया जाए। साथ ही शैक्षणिक सत्र के प्रथम दिन पाठ्य पुस्तक वितरण दिवस एवं प्रथम सप्ताह को पाठ्य पुस्तक वितरण सप्ताह के रूप में मनाया जाने की जरूरत है।  पाठ्यपुस्तक वितरण को लेकर राज्य सरकार से एक नीति बनाने की मांग की है। प्रतिनिधिमंडल में क्राई के बिहार हेड शरदिंदु बनर्जी, मंच के संरक्षक उदय, मंच के राज्य कोडिनेटर राजीव रंजन, विनय कुमार, सूरज गुप्ता एवं सुमन सौरभ शामिल थे।

Previous articleपटना में बच्चों के अधिकार को लेकर सेमिनार
Next articleदेश विरोधी काम कर रहे हैं कॉम्युनिस्ट : जे नन्दकुमार
सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here