भारत, ब्रिटेन ने मुक्त व्यापार करार को लेकर बातचीत आगे बढ़ाने की प्रतिबद्धता जताई

0
31

राजू बोहरा नई दिल्ली /  तेवरनलाइन डॉटकॉम

नई दिल्ली,  ब्रिटेन और भारतीय मंत्री पहली जॉइंट इकनोमिक एंड ट्रेड कमीटी (जेइटीसीओ) रोडमैप के भाग के रूप में फ्री ट्रेड एग्रीमेंट से व्यापार करने के लिए बाधाओं को दूर करने पर सहमत है।

यूके इंडिया बिज़नेस काउंसिल ने आज तहे दिल से लिज़ ट्रस(यूके अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के लिए राज्य सचिव) और पीयूष गोयल(भारतीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री) की घोषणा का स्वागत किया है। सरकार एक उन्नत व्यापार साझेदारी स्थापित करेगी, जो की यूके- इंडिया के मध्य मुक्त व्यापार समझौते के रोडमैप के लिए एक पहला कदम है। यूकेआईबीसी व्यापार में आने वाली बाधाओं से निपटने के लिए दोनों सरकारों के निरंतर फोकस का भी स्वागत करता है।

द्विपक्षीय चर्चा के भाग में, श्रीमती ट्रस और श्री गोयल के साथ श्री रानिल जयवर्धन (अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के लिए ब्रिटेन के मंत्री) और श्री हरदीप सिंह पूरी (भारतीय वाणिज्य और उद्योग राज्य मंत्री) भी शामिल हुए और खाद्य और पेय, जीवन विज्ञान और स्वास्थ्य सेवा, डिजिटल और डेटा- सेवाओं जैसे तीन प्राथमिकता वाले क्षेत्रों में द्विपक्षीय कार्य समूहों का प्रतिनिधित्व करने वाले व्यापारिक नेताओं से मुलाकात की।

हर कार्य समूह के सह-अध्यक्षों ने अनुशंसित बाजार पहुंच सुधारों की एक श्रृंखला को  प्रस्तुत किया, जो इन क्षेत्रों में यूके-इंडिया ट्रेड एंड इन्वेस्टमेंट को बढ़ावा देगा। सिफारिशों को कार्य समूहों द्वारा निर्मित विस्तृत रिपोर्टों से तैयार किया है जो की यूके और इंडिया के कई श्रेणी के व्यवसायों के फीडबैक को समेकित करता है।

इस फीडबैक का मंत्रियों द्वारा कृतज्ञता से स्वागत किया गया, जो कई सिफारिशों को लागू करने के लिए प्रगति करने पर प्रतिबद्ध हैं।

जेइटीसीओ (जेटको )के बाद,केविन मैकॉल- मैनेजिंग डायरेक्टर, यूकेआईबीसी ने कहा कि, “व्यापार को बढ़ावा देने वाली साझेदारी की आज घोषणा की गई है, जिसने यूके-इंडिया एफटीए के लिए रास्ता तय किया है, एक महत्वपूर्ण संकेत है कि यूके और इंडिया दोनों पहले से ही मजबूत साझेदारी को मजबूत करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। यह भी महत्वपूर्ण है की सरकारें बाजार तक पहुंचे वालो  अवसरों और बाधाओं पर विशेष ध्यान बनाए रखे , जो कि न केवल द्विपक्षीय व्यापार और निवेश को बढ़ावा देगा बल्कि,एफटीए के प्रति विश्वास और गति का भी निर्माण करेगा।”

यह महत्वपूर्ण है कि सरकारों को अवसरों और चुनौतियों के बारे में सबसे पहले व्यवसायों से पता चले और गंभीर  रूप से उनके समाधान के लिए काम किया जाए। जेइटीसीओ (जेटको) बिल्कुल ऐसी ही सुविधा देता है और जी2जी और बी2बी का मेल इस बैठक को एक अद्वितीय और महत्वपूर्ण इवेंट बनाता है। ‘

कार्य समूहों के यूके पक्ष इंडिया में प्रमुख यूके निवेशकों से वरिष्ठ आंकड़ों की अध्यक्षता में थे। डियाजियो के विल्सन डेल सोकोरो, रेकिट बेंकिज़र के पैटी ओ’हेयर, और आरईएलएक्स के एलिस्टेयर टेबबिट।

विल्सन डेल सोकोरो,युके फूड एंड ड्रिंक वर्किंग ग्रुप के सह-अध्यक्ष ने कहा कि, ” आज यूके- इंडिया के द्विपक्षीय व्यापार संबंधों की दिशा में एक और कदम आगे बढ़ाया था ताकि खाद्य और पेय क्षेत्र में वृद्धि का समर्थन हो सके। यहाँ दोनों तरफ महत्वपूर्ण व्यापार और निवेश के लिए अवसर है और और हम तत्पर हैं की जेटको प्रक्रिया के माध्यम से यूके और भारत सरकारों के साथ मिलकर व्यापार और नियामक अवरोधों को अनलॉक करने के लिए चर्चाओं का हिस्सा बने रहे।

पैटी ओहायर, यूके लाइफ साइंस एंड हेल्थकेयर वर्किंग ग्रुप के सह अध्यक्ष ने कहा कि, ” कोविड-१९ महामारी ने हमे सिखाया है की वैश्विक समस्या से सुलझाने का सबसे बेहतर तरीका सहयोगी समाधान के माध्यम से होता है, जो तभी मुमकिन है जब व्यवसाय और सरकारे साथ आएंगें। जेइटीसीओ (जेटको ) जैसा मंच खुलापन और विचार साझा करने के लिए मंच प्रदान करता है , जो हमारे राष्ट्रों के भविष्य की कुंजी है।

एलिस्टेयर टेबिट, यूके डिजिटल एंड डेटा सर्विसेज वर्किंग ग्रुप के सह-अध्यक्ष ने कहा : अब हमारे लिए भारत और यूके की विशाल शक्तियों को डिजिटल और डेटा सेवाओं में कैपिटल करने का समय है और हमारी दो अर्थव्यवस्थाओं में महामारी से उभरने के साथ निवेश, नवपरिवर्तन और नौकरियों को बढ़ावा देने के तरीके तरीके खोजने का समय है। मुझे उम्मीद है कि दोनों सरकारों के साथ मिलकर काम करते हुए हम इन प्रस्तावों को बदल सकते हैं, जिन्हें प्रमुख भारतीय और यूके तकनीकी कारोबार ने व्यावहारिक पहल में आगे रखा है। ‘ द्विपक्षीय मंत्रिस्तरीय बैठक के बाद वर्चुअल प्लेनरी द्वारा श्री जयवर्धन, लॉर्ड ग्रिमस्टोन : यूके के निवेश मंत्री, श्री सिंह पुरी और श्री अजय पीरामल: यूके-इंडिया सीईओ मंच के सह अध्यक्ष और पीरामल समूह के अध्यक्ष ने मिलकर संबोधित किया। इस साल की जेइटीसीओ (जेटको) मीटिंग, इस वार्षिक कार्यक्रम की यूके और इंडिया के बीच होने वाली 14वी मीटिंग थी।