टेस्ट क्रिकेट को बाय-बाय क्यों कर रहे हैं धोनी ?

0
14

नीतू कुमारी (नवगीत), पटना

जैसे खिलाड़ी बीच-बीच में लंबा आराम लेते रहे हैं । लेकिन धोनी द्वारा टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेने के संकेत से उनके प्रशंसक सकते में हैं । धोनी की उम्र अभी मात्र 30 साल है । किसी खिलाड़ी के लिए यह उम्र अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देने का होता है । धोनी अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दे भी रहे हैं । 36 टेस्ट मैचों में कप्तानी कर 17 में वे टीम को जीत दिला चुके हैं । इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया के दौरे पर टीम का प्रदर्शन आशानुरूप नहीं रहा है, तथापि टीम इंडिया ने धोनी के नेतृत्व में एक बार 20-20 विश्व कप और एक बार एकदिवसीय विश्वकप में अपनी बादशाहत साबित किया है । फिर माना यह जाता रहा था कि धोनी एक अच्छे दमखम वाले खिलाड़ी हैं और लंबे समय तक टीम इंडिया का नेतृत्व करते हुए कई विजय-गाथाएं लिखेंगे । लेकिन उनके द्वारा संन्यास के दिए जा रहे संकेतों से यह साफ हो गया है कि धोनी लंबे समय तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेलेंगे । माना जा रहा है कि एकदिवसीय और 20-20 मैचों में अपना कैरियर लंबा खींचने के लिए वह टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेंगे । सवाल यह उठता है कि धोनी ने सबसे पहले टेस्ट क्रिकेट को अलविदा करने की तैयारी क्यों की । उनकी मनोदशा क्या है।

क्रिकेट के पंडित टेस्ट क्रिकेट को सर्वाधिक महत्वपूर्ण मानते रहे हैं । टेस्ट क्रिकेट में ही किसी खिलाड़ी के कौशल और तकनीक की असली परीक्षा होती है । ऐसे में धोनी द्वारा टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कहने की तैयारी करना इस बात को इंगित करता है कि क्रिकेट पंडितों की सोच और नये खिलाड़ियों की सोच अलग-अलग है । वस्तुतः महेन्द्र सिंह धोनी भारत में नव उदारवादी व्यवस्था अपनाए जाने के बाद  उभार लेती पीढ़ी के आइकान रहे हैं । यह पीढ़ी कई मायनों में पुरानी पीढ़ी से भिन्न है । पांच दिनों तक धैर्य रखकर बल्ले और गेंद से जूझना इस पीढ़ी को नागवार लगता रहा है । कम समय में धमाल मचाकर अधिक पैसे कमाना आसान है। क्रिकेट में ज्यादा पैसा 20-20 और एकदिवसीय मैचों में है। जबकि जिस फार्मेट में रणकौशल, धैर्य और तकनीक की असली परीक्षा होती है उससे दर्शक भी दूर जाने लगे हैं । नई पीढ़ी के खिलाड़ी भी उसी रास्ते पर हैं ।  वस्तुतः टेस्ट क्रिकेट के प्रति उपेक्षा का भाव बढ़ता जा रहा है । 20-20 और एकदिवसीय मैचों के बढ़ते आयोजनों के कारण अंतराष्ट्रीय स्तर पर खेले जानेवाले टेस्ट मैचों की संख्या वैसे भी कम होती गयी है । फिर खिलाड़ी भी इससे मुंह मोड़ने लगे हैं । नव उदारवादी व्यवस्था में ऐसी परिस्थिति प्रायः हर क्षेत्र में देखने को मिल रही है । परंपरा के निर्वाह और धैर्य के साथ कार्य का संपादन किसी को रास नहीं आता । सभी को तुरंत नतीजा चाहिए , चमक चाहिए , तेज तरक्की चाहिए  और फिर अपने और अपने परिवार के लिए ढेर सारा खाली समय चाहिए । भला क्रिकेट खिलाड़ी इसका अपवाद कैसे हो सकते हैं । इस पीढ़ी के आइकान धोनी भी शायद ऐसी ही इच्छा रखने वाले इंसान हैं ।

Previous articleभारत की आध्यात्मिक अंतरात्मा स्वामी विवेकानंद (जयंती,12 जनवरी)
Next articleमाँ तूं महान है
सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here