पूर्व मध्य रेल में सतर्कता जागरूकता कार्यशाला का आयोजन

0
10

तेवरआनलाईन, हाजीपुर

सतर्कता संगठन, पूर्व मध्य रेल, हाजीपुर द्वारा दिनांक 25.10.2010 से 01.11.2010 तक ‘‘सतर्कता जागरूकता सप्ताह‘‘ मनाया जा रहा है । इस अवसर पर सतर्कता जागरूकता सप्ताह के प्रथम दिन हाजीपुर के मुख्यालय प्रांगण में महाप्रबंधक श्री के.के. श्रीवास्तव ने कर्मचारियों एवं अधिकारियों को अपने कार्यकलापों के प्रत्येक क्षेत्र में सत्यनिष्ठा, ईमानदारी एवं पारदर्शिता की शपथ दिलाई । इसके पश्चात् महाप्रबंधक महोदय की अध्यक्षता में सतर्कता जागरूकता विषय पर कार्यशाला का आयोजन भी किया गया । इस अवसर पर महाप्रबंधक महोदय द्वारा सतर्कता बुलेटिन का विमोचन भी किया गया ।

अपने संबोधन में महाप्रबंधक महोदय ने कहा कि किसी भी संगठन के विकास में सतर्कता संगठन की बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका होती है । उन्होंने कहा कि अगर लोगों में सतर्कता के प्रति जागरूकता हो तो फिर भ्रष्टाचार निरोधी संगठन का उद्देश्य स्वतः पूरा हो जाता है । महाप्रबंधक महोदय ने कहा कि किसी भी प्रकार की शिकायत पर त्वरित कार्रवाई से भ्रष्टाचार को कम किया जा सकता है । उन्होंने कहा कि सतर्कता जागरूकता सप्ताह के आयोजन का मुख्य उद्देश्य पारदर्शिता बढ़ाना, सूचना का सतत् प्रवाह सुनिश्चित करना तथा भ्रष्टाचार के विरूद्ध जागरूकता पैदा करना है ।

श्री नरेन्द्र कुमार, मुख्य सतर्कता अधिकारी-सह-वरिष्ठ उपमहाप्रबंधक ने सतर्कता जागरूकता सप्ताह के उद्देश्यों पर पर प्रकाश डालते हुये कहा कि इस सप्ताह का उद्देश्य रेल उपभोक्ताओं को रेलवे के नियमों और प्रावधानों के बारे में जानकारी देना है । यह देखा गया है कि समय पर त्वरित कार्रवाई एवं पारदर्शिता से भ्रष्टाचार को कम किया जा सकता है । आधुनिक तकनीकों के प्रयोग से रेलवे के कार्यकलापों में काफी पारदर्शिता आयी है और इससे भ्रष्टाचार को रोकने में मदद मिल रही है ।

कार्यशाला में अतिथि वक्ता के रूप में रेलवे बोर्ड के पूर्व सलाहकार (सतर्कता) श्री ए.के. उपाध्याय एवं बिहार राज्य विद्युत बोर्ड के चेयरमैन श्री पी.के. राय ने सतर्कता से संबंधित विविध मामलों की विस्तार से विवेचना की । इसके बाद उप मुख्य सतर्कता अधिकारी (इंजीनियरिंग)       श्री विकास चन्द्रा, उप मुख्य सतर्कता अधिकारी (भंडार) श्री पी.के.सिन्हा, उप मुख्य सतर्कता अधिकारी (लेखा) श्री अभिषेक कुमार, उप मुख्य सतर्कता अधिकारी (यातायात) श्री डी.के. वर्मा, उप मुख्य सतर्कता अधिकारी (विद्युत) श्री संजय कुमार तथा मुख्य सामग्री प्रबंधक श्री अरूण मेहता ने सतर्कता जागरूकता कार्यशाला में सतर्कता से संबंधित मामलों की व्याख्या की और उनपर विशद् प्रकाश डाला ।

सतर्कता जागरूकता कार्यशाला में मुख्य कार्मिक अधिकारी श्री जे.एस.पी.सिंह, श्री राजेन्द्र सिंह मुख्य भंडार नियंत्रक, श्री आर.के. सिंह मुख्य विद्युत इंजीनियर, श्री दीपक छाबड़ा मुख्य संरक्षा अधिकारी, श्री बी.के. तिवारी मुख्य वाणिज्य प्रबंधक, श्री आर.एस.पाण्डेय मुख्य परिचालन प्रबंधक, श्री एच.के. अग्रवाल मुख्य सिगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर, डा. यू.सिंह मुख्य चिकित्सा निदेशक, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी (निर्माण/उत्तर) श्री प्रमोद कुमार, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी (निर्माण/दक्षिण) श्री मधुरेश कुमार, महाप्रबंधक के सचिव श्री वी.के.सिंह सहित मुख्यालय के अन्य अधिकारीगण तथा यूनियन की ओर से श्री एम.एन.वाजपेयी भी उपस्थित थे ।

Previous articleविकास के नारों के सहारे सत्ता की सीढ़ी पर चढ़ने की होड़
Next articleभाकपा (माले) के चुनावी घोषणा पत्र का सार
सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here