सोनपुर मेला में रेलग्राम प्रदर्शनी का उद्घाटन

0
23

सोनपुर मेला में रेलग्राम प्रदर्शनी का उद्घाटन संयुक्त रूप से पूर्व मध्य रेल के महाप्रबंधक श्री के.के. श्रीवास्तव एवं अपर महाप्रबंधक श्री एन. जयराम ने किया । उद्घाटन के बाद महाप्रबंधक ने पूर्व मध्य रेल के अन्य अधिकारियों के साथ प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया । सोनपुर के मंडल रेल प्रबंधक श्री आर.के. अग्रवाल की अगुवाई में इस बार रेलग्राम को एक नया स्वरूप दिया गया है रेलग्राम में रेलवे इंजन एवं डिब्बों के विविध प्रकार के माडल रखे गए हैं । गंगा नदी पर निर्माणाधीन पुल की लघु आकृति भी लोगों को देखने के लिए रखी गयी है । इस अवसर पर पूर्व मध्य रेल महिला कल्याण संगठन की अध्यक्षा श्रीमती साधना श्रीवास्तव द्वारा रेलग्राम में पेंटिंग्स-सह-हस्तशिल्प कला प्रदर्शनी का उद्घाटन किया गया ।

करीब 1.4 एकड़ में विस्तृत रेलग्राम में यात्रियों को रेलयात्रा के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों, नशाखुरानी के खतरे तथा मानवरहित समपार फाटक को सावधानी से पार करने के विषय में विस्तार से जानकारी दी गयी है । महाप्रबंधक               श्री के.के. श्रीवास्तव ने उद्घाटन के उपरांत यांत्रिक, सिग्नल, वाणिज्य, संरक्षा, रेल सुरक्षा बल, राजभाषा और आई.आर.सी.टी.सी. की प्रदर्शनी को देखा । उन्होंने इस मेला के लिए विशेष तौर पर मंगाए गए ट्वाय ट्रेन को भी देखा । इस ट्वाय ट्रेन का परिचालन स्काउट एवं गाइड के सदस्यों द्वारा किया जा रहा है ।

प्रदर्शनी के अवलोकन के बाद महाप्रबंधक श्री के.के. श्रीवास्तव की उपस्थिति में रेलग्राम परिसर में ‘छुक्क-छुक्क रेल चली है‘ नामक नुक्कड़ नाटक का मंचन हमराही संस्था द्वारा किया गया । इस नुक्कड़ नाटक के माध्यम से उपस्थित लोगों को रेल टिकट खरीदकर यात्रा करने, रेल परिसर को साफ-सुथरा रखने, नशाखुरानी गिरोह से बचने तथा मानवरहित समपार फाटक को सावधानी से पार करने की नसीहत दी गयी ।

इस अवसर पर श्री जे.एस.पी. सिंह मुख्य कार्मिक अधिकारी, श्री दीपक छाबड़ा मुख्य संरक्षा अधिकारी, श्री के.पी. राव मुख्य यांत्रिक इंजीनियर, भवरंजन राय वित्त सलाहकार एवं मुख्य लेखाधिकारी, श्री वी.के. तिवारी मुख्य वाणिज्य प्रबंधक, श्री नरेन्द्र कुमार वरिष्ठ उप महाप्रबंधक, डा. यू. सिंह मुख्य चिकित्सा निदेशक, श्री ए.के. झा उप महाप्रबंधक (सामान्य), श्री दिलीप कुमार मुख्य जनसंपर्क अधिकारी, सोनपुर मंडल के अपर मंडल रेल प्रबंधक श्री अंगराज मोहन सहित मुख्यालय एवं सोनपुर मंडल के अन्य उच्चाधिकारीगण उपस्थित थे ।

Previous articleइन गलियों में भी बसती है कला…
Next articleलालू व उनके परिवार की साइलेंट पोलिटिकल किलिंग
सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here