29 C
Patna
Thursday, August 11, 2022

अफवाह बना विश्वास (कविता)

निर्भय देवयांश पत्थर की बनी मूर्ति में कोई आवाज नहीं है निर्जीव है लाशों की तरह इंसान के जजबात ने कुछ देर के लिए पत्थर पर विश्वास कर लिया कुछ...

जंग खाते अतीत की चमकदार पेंटिंग

दुर्गेश सिंह, मुंबई छुट्टी के दिन के इस कोरस को बॉलकनी में बैठकर चाय की चुस्कियों के बीच बिता देना आसान न होगा। क्योंकि कोरस...

काफिला-ए-हिजाज इस्लाम के विस्तार से जुड़ी एक रुमानी प्रेम कहानी

2
(पुस्तक-विवेचना) आलोक नंदन “काफिला-ए-हिजाज” जनाब नसीम हिजाजी द्वारा लिखित एक तारीखी नाविल है, जिसमें एक इराकी युवक हस्सान और एक ईरानी सामंत कबाद की...

वह अनाथ बच्चा

निर्भय देवयांश नदी के किनारे बैठा वह अनाथ बच्चा भारत के भविष्य को खोजता है पानी की तरंगों में, वह अकेला रहता है बहुत बड़े घर में जहां कोई नहीं उसके सिवा पूछने...

आम आदमी का संविधान

निर्भय देवयांश एक आदमी जिसके पास देने के लिए कुछ भी नहीं आखिर यही आदमी सबसे अधिक चिंता क्यों करता है हमलोगों के बारे में, देश दुनिया...