VOB-प्रतिभा सम्मान समारोह-2012 सह कैरियर कौसिलिंग का आयोजन

0
44

साकेत विनायक,

वोइस ऑफ़ बिहार (सामाजिक संस्था) द्वारा शिक्षा के प्रति बच्चों की रूचि बढ़ाने और उनकी प्रतिभा को निखारने के उद्देश्य से संस्था के पटना जिला अध्यक्ष श्री विश्वास गौतम के नेत्रित्व में पटना के लोहिया नगर, कंकड़ बाग स्थित राजकीय कृत भारती मध्य विद्यालय में दिनांक 26/7/2012 को प्रतिभा सम्मान समारोह सह कैरियर कौसिलिंग का आयोजन किया गया।

जिसमे बिहार शताब्दी समरोह 2012 में शामिल होने वाले पटना के 7 स्कूल के छात्र एवं छात्राओ को सम्मानित किया गया तथा वोइस ऑफ़ बिहार के तरफ से सम्मान पात्र भी प्रदान किया गया। कार्यक्रम के आयोजन को लेकर बच्चों का उत्साह देखते ही बनता था. यह कार्यक्रम बच्चों के लिए किसी त्यौहार से कम नहीं था. कार्यक्रम के आयोजन से राजकीय कृत भारती विद्यालय के संकुल समंव्यिका श्रीमती उर्मिला देवी काफी खुश नजर आ रही थी उन्होंने कार्यक्रम के सफल आयोजन में विश्वास गौतम की हर संभव मदद की. ज्ञात हो कि राजकीय कृत भारती विद्यालय के बच्चों ने बिहार शताब्दी वर्ष समारोह 2012 में हुए जिला स्तरीय नृत्य प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त किया था. वोइस ऑफ़ बिहार ने राजकीय कृत भारती विद्यालय के संकुल समंव्यिका श्रीमती उर्मिला देवी को उनके सक्रिय योगदान के लिए सम्मान पत्र भी दिया. इस अवसर पर वोइस ऑफ़ बिहार संस्था के श्री अजय कनोडिया, महासचिव श्री साकेत विनायक, भागलपुर जिला अध्यक्ष मो. इमरान खान तथा भागलपुर से प्रकाशित होंने वाले मासिक पत्रिका इन्कलाब के संपादक डॉ. अभय कुमार, पटना जिला अध्यक्ष श्री विश्वास गौतम, सुश्री संतोषी सहनी, आरा जिलाध्यक्ष सरदानंद पांडेय सहित कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे. कार्यकर्म में सम्मलित सात विद्यालय का नाम १.) कन्या  मध्य विद्यालय  वीरचंद  पटेल, लोहियानगर ,कंकरबाग, पटना २.)भारती मध्य विद्यालय,लोहियानगर, कंकरबाग, पटना ३.)  प्राथमिक  विद्यालय,हनुमान  नगर, कंकरबाग, पटना ४.)पोब्लिक  प्राथमिक विद्यालय लोहियानगर ,कंकरबाग, पटना ५.)कन्या मध्य विद्यालय,लोहियानगर, कंकरबाग, पटना ६.)बापू स्मृति मध्य विद्यालय, हनुमान नगर, कंकरबाग, पटना ७.) मध्य  विद्यालय, लोहिया नगर, कंकरबाग, पटना

कार्यक्रम की शुरुआत राजकीय कृत भारती मध्य विद्यालय के स्वागत भाषण से हुआ, उन्होंने वोइस ऑफ़ बिहार के इस तरह के आयोजन को छात्र एवं छात्राओ के सर्वांगीन विकास में सहायक बताया और संस्था से अपील की,  ऐसे कार्यक्रम भविष्य में भी आयोजित किये जाये|

संस्था के अध्यक्ष श्री अजय कनोडिया ने कहा कि बचपन तो उस गीली मिटटी की तरह होती है जिसे कुम्हार जिस सांचे में डालता है वो वैसा रूप ले लेती है. हमे कोशिश करनी होगी इन बच्चों को सही सांचा मिले, इन्ही बच्चों में से आगे चल कर कोई डॉक्टर, इंजीनियर, वैज्ञानिक कोई साहित्यकार इत्यादि बनेगा, श्री कनोडिया ने कार्यक्रम के सफल आयोजन  में मदद के लिए श्रीमती उर्मिला देवी का आभार प्रकट किया साथ ही पटना जिला अध्यक्ष श्री विश्वास गौतम की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस युवा लड़के में अपने समाज अपने देश के प्रति कुछ करने के लिए गजब की ललक और उत्साह है, ये लड़का आत्मविश्वास से लबरेज है. इस सम्मान समारोह का सफल आयोजन विश्वास के विश्वास का ही नतीजा है। विश्वास ने अकेले दम पर इस कार्यक्रम की पूरी तयारी की है।

वोइस ऑफ़ बिहार के महासचिव श्री साकेत विनायक ने कहा कि ये बच्चे हमारे देश का भविष्य हैं, इन्हें सवारने और निखरने का पूरा मौका मिलना चाहिए, अक्सर देखा जाता है कि सही मार्गदर्शन और सुविधाओं की कमी की वजह से कई प्रतिभा दब कर रह जाते है। अगर इन बच्चों को सही मार्गदर्शन और अवसर मिले तो एक दिन अपने सूबे और देश का नाम दुनिया में रौशन कर सकते है। हमारे बिहार में प्रतिभाओं की कमी नहीं है इतिहास गवाह है जब भी हमें मौका मिला है हमने दुनिया को अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है।

इन्कलाब हिंदी मासिक के संपादक डॉ. अभय कुमार ने सरकार की गलत नीतियों को सरकारी विद्यालय के दुर्दशा का कारण बताया और छात्रो से अपील की की आप कम सुबिधाओ को भूल कर अपनी मेह्नत से अपनी सुनहरी तक़दीर लिखे और आने वाले समय में अपने राज्य और देश का नाम रौशन करे|

कार्यक्रम का संचालन कर रहे श्री  विश्वास गौतम ने कहा कि “वोइस ऑफ़  बिहार” कर्मठ और अपने राज्य/देश के प्रति समर्पित लोगो का समूह है, जिसके हर सदस्य में अपने राज्य अपने देश के लिए कुछ कर गुजरने का जज्बा है. जो लोग बिहार में रहते है वो जमीनी कार्यक्रम में अपना योगदान दे रहे हैं और जो बिहार से बाहर देश के विभिन्न हिस्से तथा देश के बाहर में रहते है, वो आर्थिक रूप से या अपने बहुमूल्य विचारो से संस्था ने  संचालन में अपना सहयोग देते है. उन्होंने सातों विद्यालय के प्रधानाध्यक/प्रधाध्यपिका और ब्लाक एजुकेशन ऑफिसर का भी आभार प्रकट किया और उनके सहयोग की प्रसंशा की|

चार घंटे चले इस कार्यक्रम के अंत में छात्र/छात्राओ, शिक्षको  एवं वोइस ऑफ़ बिहार के सदस्यों द्वारा कारगिल शहीदों को श्रधांजलि अर्पित की गई और कार्यक्रम का अंत राष्ट्रीय गान से किया गया|

Previous articleसुशासन में महिलाओं के खिलाफ क्रूरतम अपराधों में इजाफा
Next articleबाइट प्लीज (उपन्यास, भाग-6)
सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here