युद्ध पर फिल्मे बनना एक बड़ा चुनौतीपूर्ण कार्य है जिसे हमने भुज: द प्राइड आफ इंडिया” में शतप्रतिशत ईमानदारी से करने की कोशिश की है : अभिषेक दुधैया

0
31

राजू बोहरा @ नई दिल्ली

देशभर में इन दिनों एक फिल्म की सब तरफ काफी चर्चा और तारीफ हो रही है खास बात यह है की ये फिल्म ओटीटी पर तेजी से पिछले कामयाबी के सारे रिकार्ड तौडती जा रही है। वह फिल्म है अजय देवगन, संजय दत्त, सोनाक्षी सिन्हा, नोरा फतेही, एमी विर्क, शरद केलकर, इहाना धिल्लंन, प्रणिता सुभाष जैसे तमाम बड़े कलाकारों के शानदार अभिनय से सजी और अभिषेक दुधैया के निर्देशन में बनी “भुज: द प्राइड आफ इंडिया”। बड़े बजट वाली यह फिल्म 15 अगस्त के खास मौके पर डिजनी व हॉट स्टार ओटीटी पर रिलीज़ हुई है। खास वाली बात यह है की ओटीटी पर रिलीज़ हुई यह पहली ऐसी फिल्म बन गई है जिसकी चर्चा सिनेमा हाल में रिलीज़ होने वाली फ़िल्मी की तरह हो रही है और दर्शको को बहुत काफी पसंद भी आ रही है। इसमें निभाई विजय कार्णिक की अपनी भूमिका को लेकर खुद अभिनेता अजय देवगन भी खासे उत्साहिक है।

देश भक्ति से भरपूर इस बिग बजट की फिल्म को टी सीरीज़ व अजय देवगन फिल्म्स ने प्रजेंट किया है और जिसके निर्माता भूषण कुमार, कुमार मंगत पाठक, गिन्नी खानूजा, वजीर सिंह, बन्नी संघवी व अभिषेक दुधैया है। फिल्म के सबसे महत्वपूर्ण कड़ी है इसके लेखक और निर्देशक अभिषेक दुधैया हैं जिनके अन्दर फिल्म निर्देशन का एक  जबरदस्त जूनून भरा है तभी तो उन्होंने इतनी बड़ी फिल्म को बनाया। अभिषेक दुधैया मूलतः गुजरात के रहने वाले है और इस फिल्म से पहले वह मुकुल एस आनंद की फिल्म ‘त्रिमूर्ति’, रमन कुमार की फिल्म ‘ राजा भैया’,’ वाह वाह रामजी’,’ सरहद पार’ जैसे बड़ी फील्मो में बतौर सहायक निर्देशक काम किया और धारावाहिक तारा, संसार, दीवार, सुहाग, एहसास, अग्निपथ, सिंदूर तेरे नाम का, लाइफ का रीचार्ज जैसे लोकप्रिय धारावाहिकों के वो पूर्णरूप से निर्देशित कर चुके है।

एक खास बातचीत में उन्होंने बताया की बतौर निर्देशक ‘भुज : द प्राइड आफ इंडिया” उनकी पहली फिल्म है जो भारत के 1971 के एक सत्य ऐतिहासिक घटना पर आधारित है। इस फिल्म में अभिनेता अजय देवगन ने स्क्वाड्रन लीडर विजय कुमार कार्णिक का रोल निभाया है, जो उस वक्त भुज एयरबेस के इंचार्ज थे और उन्हें उसका हीरो माना जाता है।उन्होंने कहा की मुझे सभी कलाकारों के साथ साथ काम करके काफी मज़ा मजा आया। सभी कलाकारों ने काफी सपोर्ट किया। सबसे ज्यादा सपोर्ट अजय देवगन का रहा, क्योकि पूरी फिल्म उन्ही को लेकर थी यानि स्क्वाड्रन लीडर विजय कुमार कार्णिक जोकि हमारी फिल्म के स्टार है और वह रोल अजय देवगन ने बखूबी निभाया।

फिल्म की कहानी के बारे में पूछने पर निर्देशक अभिषेक दुधैया ने आगे बताया की साल 1971 में भारत तथा पाकिस्तान के युद्ध के दौरान गुजरात के भुज एअरबेस के रनवे को पाक सेना ने बमबारी करके तहस नहस कर दिया था। उस वक्त भुज एअरबेस के तत्कालीन प्रभारी आईएएफ स्क्वाड्रन लीडर विजय कार्णिक और उनकी टीम ने गुजरात के माधापर व उसके आसपास के गांव की 300 महिलाओं की मदद से वायुसेना के एयरबेस का पुनः निर्माण किया था। उसी को इस फिल्म में दिखाया गया है। कुल मिलकर मेरी यह फिल्म भुज:द प्राइड आफ इंडिया” दर्शको में देश भक्ति का जज्बा जगाती है। उनका कहना है की वार-युद्ध पर फिल्मे बनना एक बड़ा चुनौतीपूर्ण कार्य है जिसे हमने शतप्रतिशत ईमानदारी से करने की कोशिश की है और हम उसमे कामयाबी हुए है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here