डा. कमल बोस को साहित्य साधना पुरस्कार

0
33

तेवरआलाइन, पटना

नाटक, आलोचना और हिन्दी भाषा के विविध पक्षों पर लगातार लेखन करने वाले  संत जेवियर्स कालेज, रांची के हिन्दी विभाग के अध्यक्ष डा. कमल बोस को बिहार सरकार के बिहार राष्ट्रभाषा परिषद द्वारा आयोजित सम्मान समारोह में साहित्य साधना पुरस्कार से सम्मानित किया गया । डा. बोस ने यह पुरस्कार बिहार सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्री श्री हरिनारायण सिंह से ग्रहण किया । पुरस्कार मिलने के बाद पत्रकारों से बात करते हुये डा. बोस ने कहा कि इस सम्मान से उन्हें लेखन कार्य में और ऊर्जा मिलेगी। यह सम्मान एक बड़ा दायित्व भी है। अब हिन्दी भाषा एवं साहित्य की समृद्धि के लिए लगातार प्रयास करूंगा। विदित हो कि रांची के शिक्षा, साहित्य एवं कला-संस्कृति के सशक्त हस्ताक्षर         डा. कमल बोस के अनेक शोध पत्र भी विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके हैं । प्रयोजन मूलक हिन्दी और प्रसाद की नाट्य भाषा पर डा. कमल बोस द्वारा लिखित पुस्तकें भी प्रकाशित हो चुके हैं ।

बिहार सरकार के राष्ट्रभाषा सम्मान समारोह में डा. कमल बोस के अलावा  डा. बालेन्दूशेखर मंगलमूर्ति, डा. विनय कुमार चैधरी और डा. राम प्रसाद सिंह को भी सम्मानित किया गया । लेकिन, झारखंड राज्य से सम्मानित किये जाने वाले एकमात्र साहित्यकार डा. कमल बोस ही रहे ।

Previous articleezeego1 जैसी कंपनियों की लूट-खसोट से जागो पप्पू जागो !!
Next articleमात्र आठ महीने की तैयारी में पीओ बन गये विकाश
सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here