दो नवविवाहिता सहित, बज्रपात से पांच मजदूरों की मौत

0
18


वीरेन्द्र कुमार,

तड़का गिरने के कारण शुक्रवार को हुई पांच मजदूरों की मौत में 2 नवविवाहिता भी शामिल है जिनकी हाथों की मेहदी अभी सूखी भी नहीं थी और उनके घर बसाने का सपना चकनाचूर हो गया। घटना मोतिहारी जिले के बनकटवा के अगरवा गावं की है, जवान मजदूर रोपनी कर रहे थे उसी क्रम में आई तेज बारिश के कारण सभी मजदूर पेड़ के नीचे छिप गए पर भगवन को तो उन मजदूरों का मौत काबूल था। मृतकों में लालसा देवी १८, साँझा देवी १८, सुगिया देवी ४५, चंकाली देवी ४६, रामरती देवी ६५ वर्ष है ! जबकि गम्भीर रूप से २ घायलों में अविनाश कुमार, सकली देवी शामिल है।
जबकि २ नवविवाहिता सदा के लिए अपने प्रियतम से जुदा हो गए और भगवन के प्यारे हो गए। लालसा देवी की शादी इसी १७ मई को हई थी वहीं साँझा देवी की शादी २१ मई को हुई थी। सभी को यह घटना झकझोर रही है। घटना से सब आहत हैं उक्त गावं में कोहराम मचा हुआ है, जबकि घरवाले बदहवास स्थिति में हैं।

Previous articleइशरत जहां एनकाउंटर का सच!
Next articleमिस्र में ‘इस्लामिक डेमोक्रेसी’ का खात्मा
सदियों से इंसान बेहतरी की तलाश में आगे बढ़ता जा रहा है, तमाम तंत्रों का निर्माण इस बेहतरी के लिए किया गया है। लेकिन कभी-कभी इंसान के हाथों में केंद्रित तंत्र या तो साध्य बन जाता है या व्यक्तिगत मनोइच्छा की पूर्ति का साधन। आकाशीय लोक और इसके इर्द गिर्द बुनी गई अवधाराणाओं का क्रमश: विकास का उदेश्य इंसान के कारवां को आगे बढ़ाना है। हम ज्ञान और विज्ञान की सभी शाखाओं का इस्तेमाल करते हुये उन कांटों को देखने और चुनने का प्रयास करने जा रहे हैं, जो किसी न किसी रूप में इंसानियत के पग में चुभती रही है...यकीनन कुछ कांटे तो हम निकाल ही लेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here