साक्षरता से ही देश,समाज और लोगो की प्रगति सम्भव है – विजय के सैनी

0
38

राजू बोहरा नयी दिल्ली,
भारतीय टेलीविजन के दर्शको के लिए डायरेक्टर विजय के सैनी का नाम किसी खास परिचय का मोहताज नहीं है,वह पिछले करीब पंद्रह-सौलह वर्षो से धारावाहिकों के निर्देशन में लगातार सक्रिय है और प्राइवेट चैनल्स से लेकर दूरदर्शन तक के दर्जनों लोकप्रिय धारावाहिकों का सफल निर्देशन कर चुके है। विजय के सैनी बॉलीवुड के उन गिने चुने भाग्यशाली धारावाहिक निर्देशको में से एक है जिन्हे भारतीय टेलीविजन के नामचीन व बेहद पॉपुलर धारावाहिको को डायरेक्ट करने का अवसर मिला है। जिनमे ’’कहानी घर घर की’’,’’कसम से’’, ’’करम अपना अपना,  बड़े अच्छे लगते हैं, ’’ नियति’’, कुमकुम भाग्य ’’गणेश लीला’’’’कयामत, ’’ ख्वाहिश, ’’क्या दिल में है’’, ’’जय माँ वैष्णो देवी’’,’’कभी तो मिल के सब बोलो’’और ’’साथ साथ’’, जैसे स्टार प्लस, सोनी टीवी, जी टीवी, सहारा वन, ’’नाइन ऐक्स’’, ’’सोनी पल’’, ’’सोनी सब’’ और ’’दूरदर्शन’’ सहित सभी चैनल्स के एक दर्जन से ज्यादा नामी-गिरामी चर्चित धारावाहिकों का निर्देशन कर चुके है।
’’कहानी घर घर की’’,’’कसम’’ से, ’’करम अपना अपना’’,’’नियति’’ कयामत’’,ख्वाहिश’’,क्या दिल में है, पवित्र रिस्ता, किस्मत कनेक्शन, तुम देना साथ मेरा,’’विवाह’’,’’गणेश लीला’’ जय माँ वैष्णो देवी’’,और ’’साथ साथ’’,’’कभी तो मिल के सब बोलो’’ जैसे स्टार प्लस, सोनी टीवी, जी टीवी, सहारा वन, नाइन ऐक्स और दूरदर्शन के दर्जनो से ज्यादा नामी-गिरामी चर्चित धारावाहिकों उनके खाते में मुख्य रूप से शामिल है। वर्तमान समय में भी वह दूरदर्शन के राष्ट्रीय चैनल पर आॅफटरनून स्लॉट में लोकप्रिय डेली धारावाहिक ’’प्रगति’’ का सफल निर्देशन कर रहे है। मिड प्राइम टाइम में जो सोमवार से शुक्रवार दोपहर 2 बजे हो रहा है। विजय के सैनी द्वारा निर्देशित इस धारावाहिक ने दूरदर्शन के दर्शको में ना सिर्फ अच्छी लोकप्रियता हासिल कर ली है बल्कि अपने प्रसारण का शानदार शतक पूरा कर लिया है।

एक खास बातचीत में निर्देशक विजय के सैनी ने अपने इस लोकप्रिय  शो ’’प्रगति’’ के बारे में बताया की बताया की महिला सशक्तिकरण पर जोर देने वाले इस दिलचस्प शो ’’प्रगति’’ की कहानी है राजस्थान के एक शहर जयपुर के छोटे से गांव धुलाराव जी की जहां बरसों पुरानी परम्पराएं आज भी मानी और अमल में लाई जाती हैं… अगर कोई इस परम्परा को तोड़ता है या इसको नहीं मानता है तो कड़ी सजा का हकदार होता है। इन्हीं परम्पराओं और कुरीतियों के बीच आज भी फंसी हुई है उस गाँव की लड़कियों की शिक्षा और उनकी जिन्दगी। इस गांव मे लड़कियों को शिक्षा देना आज भी एक गलत परम्परा मानी जाती है और अगर कहीं शिक्षा दी भी जाती है तो ऊंची शिक्षा से उनको वंचित रखा जाता है….उनका अकेले घर से बाहर जाना…अकेले घूमना और मर्दों की बात में दखल देना आज भी एक सपना है…इसी समाज में प्रगति नाम की एक क्रांतिकारी लड़की का जन्म होता है, जो इस समाज से लड़ने का पूरा साहस रखती है। इस कहानी के जरिये राजस्थान की परम्पराएँ, सांस्कृतिक उत्सव इत्यादि को दिखाने की भरपूर कोशिश की गई है जो न केवल राजस्थान बल्कि पुरे देश की लड़कियों के लिए एक प्रेरणा का स्रोत जो बन रहा है।

धारावाहिक ’’प्रगति’ का निर्माण ’’राधा कृष्णा टेलीफिल्म’’ के बैनर तले किया जा रहा है जिसके निर्माता विजय शेटटी है। धारावाहिक प्रगति में फिल्म व टेलीविजन अनेक जानेमाने चर्चित अनेक मुख्य किरदारों को निभा रहे है जिनमे प्रगति की शीर्षक भूमिका चाइल्ड आर्टिस्ट प्रज्ञा शर्मा, उसके पिता बनवारी की भूमिका गजेन्द्र चैहान, माँ की भूमिका रेनू पाण्डेय, दादी की भूमिका मीनाक्षी वर्मा, प्रगति की टीचर आशा की भूमिका रश्मी मिश्रा और गांव के सरपंच की दिलचस्प निगेटिव भूमिका मशहूर अभिनेता निमय बाली निभा रहे है जबकि सरपंचके छोटे भाई गजोधर के किरदार में अक्षय वर्मा जैसे चर्चित कलाकार मुख्य रूप से शामिल है।
आजमगढ़ उत्तर प्रदेश से बॉलीवुड तक बतौर निर्देशक अपना सफर अपने दम पर तय करने वाले विजय के सैनी ने इलाहाबाद विश्वविधालय से ही अपनी शिक्षा पूरी की, उनका बचपन से ही फिल्मो से लगाव रहा है इस लिए वो इलाहाबाद के एक थियेटर ग्रुप से जुड़ गए और उसके बाद अपने फिल्मी कैरियर को गति देने के लिए विजय के सैनी ने ’’भारतेन्दु नाट्य एकेडमी’’ लखनऊ से दो वर्ष का विधिवत प्रशिक्षण लिया और डिप्लोमा लेने के बाद वह मुंबई आ गए, मुंबई आने के बाद शुरुआत में उन्होंने कुछ समय के लिए अभिनय के क्षेत्र में भी संघर्ष किया और अपनी सच्ची लगन और मेहनत से कुछ ही वर्षो में निर्देशन में जुड़ गए और अपनी मेहनत से आगे बढते चले गए, बतौर निर्देशक विजय के सैनी की असली निर्देशन प्रतिभा को पहचाना बालाजी टेलीफिल्म की एकता कपूर ने, विजय के सैनी ने बालाजी टेलीफिल्म के कई हिट शो का निर्देशन किया और उसके बाद वह धीरज कुमार से जुड़ गए तथा धीरज कुमार ने उन्हें एक के बाद एक कई बडे शो निर्देशिक करने के लिए दिए, वह पिछले 7 वर्षो से धीरज कुमार की कंपनी क्रिएटिव आई के शो डायरेक्ट कर रहे है।  विजय के सैनी अपनी सफलता में सबसे बड़ा योगदान अपने माता-पिता और अपने निर्माताओ का मानते है। फिलहाल वह ’’प्रगति’’ के निर्देशन में ही खासे ब्यस्त है। उनके कैरियर के अनुभव के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा आसान नहीं था आजमगढ़ उत्तर प्रदेश से बॉलीवुड तक का सफर।

Previous articleलुभावने चुनावी वायदों से इठलाता बिहार !
Next articleएनडीए में बेचैनी, रणनीती में बदलाव
लेखक पिछले सोलह वर्षो से बतौर फ्रीलांसर फिल्म- टीवी पत्रकारिता कर रहे हैं और देश के सभी प्रमुख समाचार पत्रों तथा पत्रिकाओ में इनके रिपोर्ट और आलेख निरंतर प्रकाशित हो रहे हैं,साथ ही देश के कई प्रमुख समाचार-पत्रिकाओं के नियमित स्तंभकार रह चुके है,पत्रकारिता के अलावा ये बातौर प्रोड्यूसर धारावाहिकों के निर्माण में भी सक्रिय हैं। आपके द्वारा निर्मित एक कॉमेडी धारावाहिक ''इश्क मैं लुट गए यार'' दूरदर्शन के ''डी डी उर्दू चैनल'' कई बार प्रसारित हो चूका है। संपर्क - journalistrajubohra@gmail.com मोबाइल -09350824380

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here