तीन तलाक कानून को अवैध कमाई का जरिया बना रहे समस्तीपुर के मोहिउद्दीन नगर थाने के इंचार्च आनंद कश्यप

0
9
शबनम परवीन पति तहसीन अहमद उर्फ अरमान

 

  • रिपोर्ट कराने गए फरियादी से की बदसलूकी, उसके भाई को पीटा और हाजत में बंद किया
  • फरियादी के पति से मिलकर पैसा लेने का भाई ने लगाया आरोप
  • एसएसपी से भी की लिखित शिकायत

पटना। शबनम परवीण का कसूर सिर्फ इतना था कि हाल में केंद्र की मोदी सरकार द्वारा बनाए गए तीन तलाक कानून के तहत अपने पति तहसीन अहमद उर्फ अरमान के खिलाफ कार्रवाई करने की फरियाद लेकर समस्तीपुर के मोहिउद्दीन नगर थाने के इंचार्च आनंद कश्यप के पास पहुंच गई। उनकी फरियाद सुनने के बाद आनंद कश्यप तहसीन अहमद उर्फ अरमान खिलाफ कार्रवाई करने के लिए थाने से निकले और कुछ देर बाद वापस लौटकर शबनम और उनके भाई पर केस न करने का दबाव डालने लगे। और जब नहीं माने तो भाई मंसूर आलम की जमकर पिटाई की और हाजत में भी बंद कर दिया। इसके साथ ही शबनम परवीण के साथ बदसलूकी भी की। मोहिउद्दीन नगर थाने के इंचार्च आनंद कश्यप के खिलाफ मंसूर आलम ने एसएसपी के यहां भी गुहार लगाई है।

एसएसपी को दिए गए अपने आवेदन में उन्होंने पूरी कहानी विस्तार से लिखी है, जो इस प्रकार है :

महोदय, ज्ञात हो कि मैं मोहम्मदमनसूर आलम, मोहल्ला – मिनहाज नगर, फुलवारी शरीफ, पटना का निवासी हूँ। मैं कल दिनांक16.09.2021 को अपने बहन और अपने छोटे भाई के साथ मेरी बहन के शौहर द्वारा दिए गए तीन तलाक यानी तलाक ए बीदा सेक्शन 2(c) Muslim Women (Protection of Rights onMarriage) Act, Act No. 20 of 2019 के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज कराने गया था।

मोहिउद्दीन नगर थाना हम लोग लगभग 4और 5 बजे शाम के बीच पहुंचे। थाना अध्यक्ष को हमने जब अपनी शिकायत दी तो उन्होंने हमें पहले तो कहा कि यह शिकायत मैं दर्ज नहीं करूंगा क्योंकि घटनास्थल हमारा क्षेत्र नहीं है। जब हमने कहा कि यह घटना आपके थाने के अधिकार क्षेत्र में हुआ है और मेरी बहन को उनके शौहर ने अपने घर (टेढ़ी बाज़ार, मोहिउद्दीन नगर, समस्तीपुर) के दरवाज़े पर अभी तीन तलाक दिया है जब हमलोग उनके विदेश से आने की सूचना मिलने के बाद उनके घर मिलने गए थे। मेरी बहन के पति का कहना था कि उनहोंने पहले ही मेरी बहन को तलाक दे दिया है और अगर नहीं दिया है तो अभी तीन तलाक देता हूँ। और उनहोंने तीनतलाक दे दिया जो नए सेक्शन 2(c) Muslim Women (Protection of Rights on Marriage)Act, Act No. 20 of 2019 के तहत अब गैर क़ानूनी है। इस पर थाना अध्यक्ष ने मेरे शौहर के गाँव वालों और उनके बहनोई को बुलाया और हम लोगों को इंतज़ार करने के लिए स्वयंगश्त में निकल पड़े। जब लगभग एक घंटे के बाद गश्त पर से आए तो उनके हाथ में काले पॉलिथीन में एक मिठाई का डब्बा था। उसमें क्या था वह मुझे नहीं पता। लेकिन उसके बाद मुझे उनके तेवर हमारे प्रति सख्त लगे। उनका कहना था कि उन्हें पता चला कि तलाक पहले ही दिया जा चुका है और आप चाहें तो हम आपको उनकी तरफ से पैसे दिलवा सकता हूँ।  इस पर जब मैंने कहा कि हमें पैसे नहीं अपनी बहन के लिए इंसाफ चाहिए और आप बराए मेहरबानी मेरी शिकायत दर्ज कर लें और माननीय न्यायालय को अपना काम करने दें। इस पर वह भड़क गए। और उन्होंने मुझ परघूसों से वार करना शुरू कर दिया। और फिर अपने बिना वर्दी में मौजूद आरक्षी और अन्य से भी पिटवाना शुरू कर दिया। जब मेरा भाई और मेरी बहन बीच में आईं तो मेरे भाई को बहुत मारा और मेरी बहन के साथ भी अभद्रता की। महोदय को ज्ञात हो कि मेरी बहन के साथ खुद थाना अध्यक्ष आनंद कश्यप ने अभद्रता की और हम सब को गंदी-गंदी गालियाँ दी और मुझे और मेरे भाई को लॉकअप में बंद कर दिया। साथ ही मेरे पॉकेट से सारा पैसा, मेरा डेबिट कार्ड और अन्य कागज़, मेरी फ़ाइल, मेरा मोबाइल इत्यादि भी छीन लिया। लगभग दो घंटे लॉक अप में रखने के बाद, उन्होंने हमसे एक कागज़ पर कुछ लिख कर हम दोनों भाइयों का हस्ताक्षर करवाया और मेरा सारा सामान लौटा दिया। हमने बिना पढ़े हुए वह हस्ताक्षर कर दिया क्योंकि हमदोनों का मार की वजह से सर दर्द से फटा जा रहा था, मेरे कान से खून बह रहे थे, और आँख के नीचे का हिस्सा मार की वजह से सूज गया था। लगभग हमें 10-11 बजे रात में छोड़ा गया और हम तत्काल समस्तीपुर अस्पताल पहुँच कर लगभग 12 और 1 बजे रात में अपना इलाज कराया। अस्पताल की पर्ची मेरी बहन की शिकायत पत्र के साथ इस ईमेल में संलग्न है। इलाज के बाद और डॉक्टर द्वारा पर्ची पर लिखी गयी इंजेक्शन लेने के बाद आपके निवासपर पहुंचे लेकिन वहां आपके गार्ड साहब ने हमें यह कह कर चलता कर दिया कि इतनी रातको कोई आवेदन नहीं ली जा सकती। आप सुबह आइए। महोदय, जिस तरह से हमें बेक़सूर पीटा और पिटवाया गया उसकी इजाज़त शायद ही आईपीसी के किसी भी धारा में होगी। हम आपसे अपेक्षा करते हैं कि आप मोहिउद्दीननगर, समस्तीपुर थाना अध्यक्ष और उनके बिना वर्दी वाले आरक्षी और अन्य लोगों के खिलाफ़ मेरी शिकायत पर कठोर से कठोर कार्रवाई करेंगे और थाना अध्यक्ष के ख़िलाफ़ आईपीएस 354 का मुक़दमा दर्ज करेंगे।

भवदीय,  मोहम्मद मंसूर आलम

मिन्हाज नगर, फुलवारी शरीफ, पटना- 801505 (बिहार) मोबाइल: 6299646092

इस संबंध में थाना प्रभारी आनंद कश्यप से दूरभाष के जरिए संपर्क स्थापित करने की लगातार कोशिश की गई लेकिन उन्होंने फोन उठाने की जहमत नहीं उठाई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here